पिथौरागढ़ : पिथौरागढ़ जिले की नवागंतुक जिलाधिकारी रीना जोशी ने पिथौरागढ़ पहुंच कर कार्यभार ग्रहण किया। इस मौके पर पुलिस ने गार्ड ऑफ ऑनर दिया। उन्होंने कोषागार सहित कलक्ट्रेट के विभिन्न पटलों का निरीक्षण किया। बाद में पत्रकारों से वार्ता करते हुए कहा कि जिले में पर्यटन ,स्वास्थ्य, कृषि और उद्यान के क्षेत्र में विकास की संभावनाएं हैं। इन क्षेत्रों में विकास उनकी पहली प्राथमिकता हैं।

रीना जोशी राज्य बनने के बाद जिले की 22वीं जिलाधिकारी हैं । साथ ही वह वर्ष 1960 में गठित सीमांत जिले की पहली महिला जिलाधिकारी हैं। कार्यभार ग्रहण करने के बाद उन्होंने पत्रकारों से वार्ता करते हुए कहा कि पिथौरागढ़ बड़ा जिला है। यहां पर पर्यटन कीअपार संभावनाएं हैं। धारचूला, मुनस्यारी, गुंजी जैसे अन्य पर्यटक स्थल हैं। जहां देश दुनिया भर से पर्यटक पहुंचते हैं। पर्यटन सुविधाओं में विस्तार होगा तो

जिलाधिकारी ने कहा कि चिकित्सा के क्षेत्र में भी यहां पर सुविधाओं के विस्तार की आवश्यकता है। वहीं जिले में कृषि और उद्यान के क्षेत्र में भी कार्य करना है। कृषि और उद्यान के क्षेत्र में कार्य कर लोगों की आजीविका में सुधार करना है। कृषि और उद्यान स्वरोजगार का माध्यम हैं। बेमौसमी सब्जी उत्पादन को बढ़ावा दिया जाएगा। पलायन रोकने के लिए योजनाओं को क्रियान्वित किया जाएगा।

रीना जोशी को मिली है जिम्मेदारी

रीना जोशी (IAS Reena Joshi) पिथौरागढ़ की डीएम बनाई गई हैं। वह सीमांत जिले की पहली महिला जिलाधिकारी होंगी। त्रिकोणात्मक सीमा पर स्थित जिले की व्यवस्था पहली बार महिला जिलाधिकारी के जिम्मे होगी। रीना जोशी अभी तक बागेश्वर जिले की डीएम थीं। पिथौरागढ़ में अभी तक दो महिला मुख्य विकास अधिकारी रही हैं। जिसमें सबसे पहली जिले में महिला सीडीओ वंदना थी। जो पिथौरागढ़ से प्रोन्नत होकर अल्मोड़ा की जिलाधिकारी बनी।

"
""
""
""
""
"

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ये भी पढ़ें