नई टिहरी: देहरादून जिले के जीवनगढ़ में रहने वाली एक विवाहिता के साथ ससुरालियों के जुल्म की कहानी को सुनकर हर कोई सन्न रह गया। ससुरालियों ने विवाहिता को 15 दिन तक न केवल भूखा-प्यासा रखा, बल्कि बाथरूम में बंद कर दिया।

गर्म तवे और गर्म पानी डालकर जलाया

विवाहिता ने विरोध किया तो उसे गर्म तवे और गर्म पानी डालकर जलाया गया और उसे खाने में भी जूठन दी जाती थी। पीड़िता की मां जब बेटी का हाल जानने ससुराल पहुंची, तो हैवानियत के इस खेल का पता चला।

शरीर पर मिले जलाने के 25 निशान

मामले में नई टिहरी कोतवाली में मुकदमा दर्ज होने के बाद आरोपित सास और ननद को गिरफ्तार कर लिया है। चिकित्सकीय टीम भी महिला की हालत देखकर सन्न रह गयी। महिला के शरीर पर जलाने के 25 निशान मिले हैं।

  • उधर, महिला आयोग की अध्यक्ष कुसुम कंडवाल ने पीड़ि‍ता प्रीती से जानकारी ली व एसएसपी टिहरी को आरोपितों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के भी निर्देश दिए।

दस साल पहले हुई थी शादी

जाखणीधार ब्लाक के रिंडोल गांव निवासी सरस्वती देवी की बेटी प्रीति की शादी दस साल पहले देहरादून के जीवनगढ़ निवासी अनूप जगूड़ी के साथ हुई थी। शादी के बाद से ही प्रीति को उसकी सास सुभद्रा, ससुर देवेंद्र और ननद जया दहेज के लिए पीटते थे।

बंद आ रहा था बेटी का फोन

प्रीति की मां सरस्वती देवी ने बताया कि पिछले काफी दिनों से उनकी बेटी का मोबाइल फोन बंद आ रहा था, जिससे उन्हें किसी अनहोनी की आशंका हुई और 16 सितंबर को वह अपने बेटे जितेंद्र के साथ उसकी ससुराल जीवनगढ़ पहुंच गई।

नहीं मिलने दे रहे थे बेटी से

वहां उनकी बेटी की सास सुभद्रा ने उन्हें बेटी से मिलने नहीं दिया और कहा कि उनकी बेटी ठीक है और किचन में खाना बना रही है।

  • अचानक इस बीच उनका बेटा जितेंद्र वहां किचन में गया तो वहां उनकी बेटी घायल और बिना कपड़ों के एक चुन्नी की मदद से छिपाई गई मिली।
  • जब उन्होंने बेटी को देखा तो उसके शरीर पर जलाने के निशान थे और सिर पर गहरा घाव था। बेटी इतनी बुरी हालत थी कि कुछ बोल भी नहीं पा रही थी।

परिवार खत्‍म करने की दी धमकी

इस दौरान उसकी सास आई और उसने धमकी दी कि अगर उन्होंने यह बात किसी को बताई तो उनके पूरे परिवार को खत्म कर दिया जाएगा। इस दौरान उनके दामाद अनूप ने भी बताया कि उसकी पत्नी को उसकी मां और बहन ने जलाया है।

नई टिहरी कोतवाली में दर्ज कराया मुकदमा

पीड़ि‍ता की मां ने बताया कि उसके बच्चों को भी डरा धमका कर चुप कराया जाता था। उसके बाद अगले दिन वह अपनी बेटी को लेकर रिंडोल गांव आ गए। पीड़ित के स्वजन और ग्रामीणों ने एसएसपी कार्यालय में पहुंचकर आरोपितों के खिलाफ नई टिहरी कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया।

  • इसके बाद टिहरी पुलिस ने सास सुभद्रा और ननद जया को मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया। पीड़ित महिला के तीनों बच्चों को भी टिहरी पहुंचा दिया गया है।

आरोपित सास और ननद गिरफ्तार

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक नवनीत सिंह भुल्लर ने बताया कि आरोपित सास और ननद को गिरफ्तार कर लिया है। दोनों को न्यायालय में पेश किया गया है। पीड़ित महिला को बेहतर उपचार के लिए देहरादून भी भेजा जा सकता है।

"
""
""
""
""
"

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ये भी पढ़ें