Home कविता/शायरी तेरा ख़याल

तेरा ख़याल

तेरे ख्यालों की झील में ,
उतर रहा था दिल का चाँद,
आहिस्ता आहिस्ता……
काश। कि पुकार लेता कोई,
तेरे इश्क़ में ….
मुझे डूबने से पहले।

सिम्मी हसन
बेल्थरा रोड, बलिया यूपी