प्रदुषण कंट्रोल करने के लिए लॉकडाउन के पक्ष में नहीं योगी सरकार |

खबरे सुने

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य सरकार से वायु प्रदूषण के स्तर को नियंत्रित करने के लिए कदम उठाने और प्रदुषण को नियंत्रित करने के लिए ठोस कदम उठाने के साथ ही योजना पूर्ण कार्य करने का सुझाव तो दिया है परन्तु लॉकडाउन लागू करने की इच्छुक नहीं है। सरकार के प्रवक्ता के अनुसार, मुख्यमंत्री योगी ने वरिष्ठ अधिकारियों को निजी परिवहन पर खासकर राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) जिलों में सार्वजनिक परिवहन को बढ़ावा देने के लिए कहा है।

सरकार के प्रवक्ता ने कहा कि सीएम ने प्रदूषण के स्तर से निपटने के लिए स्थानीय स्तर पर एक योजनाबद्ध कार्रवाई करने को कहा है, खासकर नोएडा और गाजियाबाद जैसे क्षेत्रों में जो दिल्ली से सटे हैं, जहां प्रदूषण का स्तर गंभीर श्रेणी में है। इतना ही नहीं उन्होंने लोगों को सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करने के लिए भी प्रोत्साहित किया।

उन्होंने कहा कि किसानों को पराली जलाने के बारे में भी जागरूक किया जा रहा है और बढ़ते वायु प्रदूषण से उन्हें होने वाली समस्या से अवगत कराया जाएगा।

अतिरिक्त मुख्य सचिव (पर्यावरण) मनोज कुमार ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त समिति के साथ बैठक के दौरान, सरकार ने प्रदूषण के स्तर को नियंत्रित करने के लिए पहले से ही उठाए जा रहे विभिन्न कदमों को बताया और कहा कि हम लॉकडाउन के पक्ष में नहीं है।

“एससी ने विशेष रूप से दो मुद्दों का उल्लेख किया था जिन पर विचार-विमर्श की आवश्यकता थी। एक लॉकडाउन था और दूसरा पराली जलाना था। यूपी लॉकडाउन के पक्ष में नहीं है क्योंकि यह हमारे फील्ड अधिकारियों को प्रभावित करेगा जिन्हें प्रवर्तन कार्य सौंपा गया है। वे अभी काम कर रहे हैं वो भी बंद हो जाएगा।”

उन्होंने कहा कि इस बीच, हम अन्य कदम उठा रहे हैं जैसे कि बीच, सड़कों और पेड़ों पर पानी का छिड़काव, घास लगाना, 10-15 साल से पुराने वाहनों को जब्त करना और निर्माण कचरे के अवैध निपटान पर नकेल कसना है।

इस बीच, एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि यूपी में पराली जलाना नगण्य है और मुख्य सचिव आर.के. तिवारी ने पराली जलाने पर पूरी तरह से नकेल कसने के लिए जिलाधिकारियों को पत्र लिखा है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.