Home उत्तर प्रदेश एक ओर पत्रकार को विक्रम जोशी बनाने की राह में मुजफ्फरनगर पुलिस

एक ओर पत्रकार को विक्रम जोशी बनाने की राह में मुजफ्फरनगर पुलिस

मुजफ्फरनगर

गाजियाबाद में पत्रकार विक्रम जोशी की हत्या से लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ पर हुए जघन्य हमले के बावजूद अब भी उत्तर प्रदेश पुलिस अपनी कार्यप्रणाली में सुधार करने को तैयार नही है।

कल देर रात करीब 3 बजे मुजफ्फरनगर के वरिष्ठ पत्रकार नीरज त्यागी के घर बदमाशो ने धावा बोला , गनीमत रही कि समय से घर मे जाग हो जाने से बदमाश अपनी गाड़ी से वापिस भाग निकले , ये पूरा मामला घर पर लगे कैमरे में रिकॉर्ड हो गया , जिसमे स्पष्ठ रूप से बदमाश और उनकी गाड़ी नजर आई।

घटना की जानकारी क्षेत्रीय थाने सिविल लाइन के एसओ डीके त्यागी को दी गयी , उसके बाद भी एसओ साहब ने मौके पर जाना उचित नही समझा , हालांकि क्षेत्रीय चौकी कच्ची सड़क के प्रभारी अनित यादव मौके पर गए ।

आपको बता दे एसओ डीके त्यागी पूर्व में भी थाना सिविल लाइन के इंचार्ज रह चुके है और प्रदेश के डीजीपी के आदेशानुसार पूर्व के थाने में किसी कोतवाल की पुनर्नियुक्ति नही हो सकती परन्तु एसओ साहब पर विशेष कृपा दिखाते हुए , डीजीपी साहब के आदेशों को ताक पर रखकर नियुक्ति दे दी गयी ।

इस घटना से एक बड़ा सवाल ये उठता है क्या सरकार और प्रशासन कार्यवाही करने के लिए पुनः किसी बड़ी घटना की प्रतीक्षा में है ?

क्या पुलिस के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलने वाले पत्रकार की सुरक्षा की कोई गारंटी नही ?

सरकार को चाहिए की पत्रकार के परिवार को मरणोपरांत मुआवजा देने की बजाय पत्रकार और उसके परिवार को भयमुक्त वातावरण दिया जाए।