Home उत्तर प्रदेश शामली रिश्वतखोर लेखपाल का वीडियो वायरल

शामली रिश्वतखोर लेखपाल का वीडियो वायरल

जनपद शामली में नेशनल हाईवे में किसान की जमीन पर बनने वाले टोल टैक्स को लेकर अधिग्रहण भूमि की एवज में करोड़ों रुपए के मुआवजे पर राजस्व विभाग के लेखपाल का रिश्वत लेने का वीडियो वायरल हो रहा है। यही नहीं वीडियो में लेखपाल खुलकर उच्च अधिकारियों को भी रिश्वत खोरी का हिस्सा देने की बात कह रहा है। किसान ने पिछले डेढ़ साल से मुआवजे में रोड़ा अटका ने को लेकर अपने उत्पीड़न का आरोप लगाया है। दरअसल आपको बता दे कि जनपद शामली में दिल्ली – यमनोत्री नेशनल हाईवे पर बनने वाले टोल प्लाजा में किसान की 4 बीघा जमीन हाईवे अथॉरिटी ने 2019 में अधिग्रहण कर ली थी और किसान जमीन व पेड़ और उसकी खेत पर बनाए गए निर्माण की एवज में करोड़ों रुपए का मुआवजा मिलना था। लेकिन करोड़ों रुपए मुआवजा मिलने की सूचना पर राजस्व विभाग ने अपना ऐसा चक्कर चलाया की किसान आज तक मुआवजे की बांट झो रहा है जबकि लेखपाल मुआवजा दिलाने के नाम पर रिश्वत की मांग कर रहा है। यही नहीं रिश्वत देने की बतौर पेशगी के रूप में किसान ने लेखपाल को रिश्वत भी दी है। जो वीडियो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। वायरल वीडियो में लेखपाल उच्च अधिकारियों तक भी रिश्वत का पैसा पहुंचाने की बात कहते हुए बिना रिश्वत दिए काम ना होने की धमकी दे रहा है। यह वायरल वीडियो थानाभवन क्षेत्र के जलालाबाद में तैनात नफीस नाम के लेखपाल का बताया जा रहा है। किसान ने लेखपाल व राजस्व विभाग के अधिकारियों पर मिलीभगत कर रिश्वत के चक्कर में उनके मुआवजे में रोड़े अटकाने व उत्पीड़न करने का आरोप लगाया है। दरअसल यह पूरी कहानी है थानाभवन क्षेत्र के अंबेटा याकूबपुर निवासी किसान यशपाल की जब इस वायरल वीडियो के बारे में किसान से बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि उन्होंने लगभग साढ़े 4 बीघा जमीन दभेढी निवासी सूबे सिंह से खरीदी थी। जबकि सूबे सिंह से ही जोहर सिंह ने भी बाकी बची 3 बीघा जमीन खरीद ली थी। सुबह सिंह की कुल जमीन साढ़े 7 बीघा थी। किसान ने आरोप लगाया कि लेखपाल ने उन्हें बिना बताए जोहर सिंह से सांज खाकर जोहर सिंह की खतौनी तो पूरी तरह एकदम क्लियर कर दी। लेकिन उनकी खतौनी में उसने सूबे सिंह के पुत्रों का नाम चढ़ा दिया। जिससे उनके मिलने वाले मुआवजे में रुकावट पैदा हो गई। यही नहीं इस दौरान 2 लेखपालों का तबादला तो हो गया लेकिन तबादलों के बाद भी रिश्वतखोरी का खेल खत्म नहीं हुआ। किसान ने बताया कि सबसे पहले इसमें हल्का लेखपाल सुनील कुमार थे उन्होंने उनकी जमीन के करोड़ों रुपए के मिलने वाले मुआवजे की एवज में रिश्वतखोरी की मांग की इस वीडियो में इनके साथ वर्तमान कानूनगो अशोक कुमार भी बैठे है। बाद में हलका इंचार्ज लेखपाल अशोक आए उन्होंने भी उनका काम नहीं किया। अब हलका इंचार्ज लेखपाल नफीस उन्हें मिलने वाले करोड़ों रुपए की एवज में कह रहे हैं कि तुमको करोड़ों रुपए का मुआवजा मिलना है बिना पैसे दिए तुम्हारा काम नहीं हो सकता। उच्च अधिकारियों को भी पैसे देने पड़ेंगे हल्का लेखपाल नफीस खुलेआम किसान से वीडियो में पैसे लेता दिख रहा है। किसान ने बताया कि एक वीडियो में इससे पहला लेखपाल सुनील कुमार व कानूनगो अशोक कुमार उन्हें बिना पैसे दिए काम ना होने की धमकी दे रहे हैं। वह इस रिश्वतखोरी से अब तंग आ चुका है। उन्होंने अधिकारियों को भी इस बाबत जानकारी दी थी अधिकारियों ने लेखपाल को जमीन की खतौनी दुरुस्त करने के आदेश भी दिए। लेकिन उसके बावजूद भी अड़ियल लेखपाल बिना रिश्वत लिए काम को मना कर रहा है अब वह किससे इस मामले की शिकायत करें। इससे पहले भी लेखपाल की रिश्वत लेते हुए कई वीडियो प्रदेश भर में वायरल हो चुके हैं। लेकिन आज तक ऐसे लोगों पर योगी सरकार का चाबुक न चलना लोगों की परेशानी का सबब बना हुआ है। अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रही इन दोनों वीडियो की चर्चा लोगों की जबान पर बनी हुई है।