वरुण गांधी, किसानों की आर्थिक मदद मुहैया कराने और अधिकारों को ले कर मैदान में ।

खबरे सुने

उत्तर प्रदेश :बीजेपी सांसद वरुण गांधी किसानों का मुद्दा ले कर मैदान मे आ गये हैं उनहोने एक बार फिर किसानों का मुद्दा उठाया है और कहा है कि वह अपने निर्वाचन क्षेत्र में फसल खरीद में किसी भी प्रकार की अनियमितता नहीं रखेंगे.
माना जा रहा है कि कृषि कानून और यूपी सरकार की लागातार आलोचनाओं के चलते उन्हें पार्टी की नाराजगी झेलनी पड़ रही है. अब इसी कड़ी में एक बार फिर उन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार पर निशाना साधा है. उन्होंने एक वीडियो शेयर किया है जिसमें वह कहते नजर आ रहे हैं कि अगर किसानों के प्रति कोई भ्रष्टाचार हो रहा है तो वह सरकार के सामने हाथ पैर नहीं जोड़ेंगे, सीधे कोर्ट जाएंगे.

इस वीडियो को शेयर करते हुए वरुण गांधी ने लिखा, ‘जब तक एमएसपी की वैधानिक गारंटी नहीं होगी, ऐसे ही मंडियों में किसानों का शोषण होता रहेगा. इस पर सख़्त से सख़्त कार्यवाही होनी चाहिए.
इसी वीडियो में वरुण गांधी एक मंडी में कर्मचारियों को गिरफ्तार करवाने की चेतावनी देते भी नजर आ रहे हैं. बिचौलियों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, ‘आप लोग हर चीज में झूठा बहाना ढूंढते हैं. नमी, टूटन, कालापन का बहाना बनाकर आप फसलों को रिजेक्ट करते हैं. इसे आप अपने मित्रों और बिचौलियों को 11-1200 में बेचते हैं और वही आपके पास आकर 1940 में बेच रहे हैं. उन्होंने कर्मचारियों से कहा कि आप क्यों बद्दुआ लेना चाहते हैं.

उन्होंने कहा, ‘अब से मेरा एक प्रतिनिधि हर मुख्य क्रय केंद्र पर रहेगा और नजर रखेगा. अगर आप लोगों ने किसानों के साथ भ्रष्टाचार या क्रूरता की तो मैं सरकार के आगे हाथ-पैर नहीं जोड़ूंगा सीधे कोर्ट जाऊंगा और आप सबको गिरफ्तार करवाऊंगा.’

इससे पहले भी वरुण गांधी ने लखीमपुर (Lakhimpur) जिले में किसान द्वारा मंडी में अपनी फसल को जलाने के मामले में उत्तर प्रदेश सरकार पर निशाना साधा था. शनिवार को वरुण गांधी ने एक किसान का वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा था, ‘उत्तर प्रदेश के किसान श्री समोध सिंह पिछले 15 दिनों से अपनी धान की फसल को बेचने के लिए मंडियों में मारे-मारे फिर रहे थे, जब धान बिका नहीं तो निराश होकर इसमें स्वयं आग लगा दी. इस व्यवस्था ने किसानों को कहां लाकर खड़ा कर दिया है? कृषि नीति पर पुनर्चिंतन आज की सबसे बड़ी ज़रूरत है.” पिछले दिनों भी वरूण गांधी तीन कृषि कानूनों को लेकर मुखर थे.

Leave A Reply

Your email address will not be published.