Home उत्तराखंड उत्‍तराखंड के नए सीएम तीरथ सिंह रावत के बारे में आरटीआई में...

उत्‍तराखंड के नए सीएम तीरथ सिंह रावत के बारे में आरटीआई में हुआ है अहम खुलासा

काशीपुर : सूबे की कमान संभालने के दौरान से ही अपने अजीबो-गरीब बयानों को लेकर चर्चा में बने उत्‍तराखंड के नए मुख्‍यमंत्री तीरथ सिंह रावत के बारे में आरटीआई के तहत एक और अहम खुलासा हुआ है। सूचना का अधिकार अधिनियम के तहत मिली जानकारी के तहत वर्तमान मुख्यमंत्री व पौड़ी से सांसद तीरथ सिंह रावत की वर्ष 2019-20 की सांसद निधि में से दिसम्बर 2020 तक केवल आठ फीसद धनराशि खर्च हुई है। जबकि 92 फीसद निधि डंप पड़ी है। पहले रिप्‍ड जींस, फिर भारत को अमेरिका का गुलाम बताने और समय रहते 20 बच्‍चे पैदा करने की बात सार्वजनिक मंच से करने वाले मुख्‍यमंत्री ने सांसद निधि खर्च करने में कोताही क्‍यों बरती इसको लेकर विपक्ष उन पर हमलावर हो सकता है।

केन्‍द्रीय मंत्री निशंक की सांसद निधि पूरी सुरक्षित

उत्तराखंड के सांसदों की 2021 के शुरुआत में में 32.20 करोड़ की सांसद निधि खर्च होने को शेष है। इसमें 17.68 करोड़ की सांसद निधि लोकसभा सांसदों तथा 14.52 करोड़ की सांसद निधि राज्य सभा सांसदों की शामिल है। यह हाल तब है जब वर्ष 2020-21 व 2021-22 की सांसद निधि भारत सरकार द्वारा स्थगित किए जाने के कारण किसी सांसद को मिली ही नहीं है। वर्तमान मुख्यमंत्री व पौड़ी सांसद तीरथ सिंह रावत की वर्ष 2019-20 की सांसद निधि में से दिसम्बर  2020 तक केवल आठ प्रतिशत धनराशि खर्च हुई है, जबकि हरिद्वार सांसद व केन्‍द्रीय मानव संसाधन मंत्री रमेश पोखरियल निशंक की कोई भी धनराशि खर्च नहीं हो सकी है।

आरटीआई एक्‍टीविस्‍ट नदीमउद्दीन ने मांगी थी सूचना 

काशीपुर निवासी सूचना अधिकार कार्यकर्ता नदीम उद्दीन एडवोकेट ने उत्तराखंड के ग्राम्य विकास आयुक्त कार्यालय से सांसद निधि खर्च सम्बन्धी सूचना मांगी थी जिसके उत्तर में लोक सूचना अधिकारी/अपायुक्त (प्रशासन) हरगोविन्द भट्ट द्वारा अपने पत्रांक सं0 3108 के साथ सांसद निधि खर्च के दिसम्बर 2020 तक विवरण उपलब्ध कराए गये हैं। जिसके अनुसार दिसम्बर 2020 के अंत तक की उत्तराखंड के लोकसभा व राज्यसभा सांसदों के सांसद निधि खर्च का विवरण दिया गया है। उत्तराखंड के वर्तमान लोकसभा सांसदों को 2019-20 की ही सांसद निधि मिली है।

सांसद अजय टम्टा ने खर्च की 89 फीसद निधि 

अल्मोड़ा सांसद अजय टम्टा को ब्याज सहित 250.23 लाख की सांसद निधि स्वीकृति हेतु उपलब्ध हुई है, जिसमें से दिसम्बर 2020 तक 89 प्रतिशत 223.75 लाख की सांसद निधि खर्च हुई है। हरिद्वार सांसद व केन्द्रीय कैबिनेट मंत्री डा. रमेश पोखरियाल को 2019-20 में 250 लाख की सांसद निधि उपलब्ध हुई है जिसमें से कोई भी धनराशि खर्च नहीं हुई है। इतना ही नहीं इनके पिछले कार्यकाल की 10 प्रतिशत 71.25 लाख की धनराशि भी खर्च होने को शेष है। पौड़ी सांसद व वर्तमान मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत को 2019-20 की 250 लाख की सांसद निधि मिली है। जिसमें से केवल आठ प्रतिशत 20.25 लाख की धनराशि ही दिसम्बर 2020 तक खर्च हो सकी है।

राज्य सभा सांसद में प्रदीप टम्टा ने खर्च की 86 प्रतिशत निधि 

टिहरी सांसद श्रीमति राजलक्ष्मी शाह को 2019-20 में 250 लाख की सांसद निधि उपलब्ध हुई है जिसमें से 77 प्रतिशत 192.46 लाख की धनराशि खर्च हो चुकी है नैनीताल सांसद अजय भट्ट को ब्याज सहित 251.21 लाख की सांसद निधि उपलब्ध हुई है जिसमें से 61 प्रतिशत 152.61 लाख की सांसद निधि दिसम्बर 2020 तक खर्च हो सकी है। उत्तराखंड के राज्य सभा सांसदों में प्रदीप टम्टा को 2016-17 में 2019-20 तक ब्याज सहित 1513.11 लाख की सांसद निधि उपलब्ध हुई है जिसमें से 86 प्रतिशत 1302.30 लाख की सांसद निधि दिसम्बर 2020 तक खर्च हो चुकी है। पूर्व सांसद राजबब्बर को 2015-16 से 2019-20 तक ब्याज सहित 2286.61 लाख की सांसद निधि उपलब्ध हुई है जिसमें से 91 प्रतिशत 2084.52 लाख की सांसद निधि खर्च हो चुकी है । राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी को 2018-19 की ब्याज सहित 504.22 लाख की सांसद निधि स्वीकृति हेतु उपलब्ध हुई है। जिसमें से 20 प्रतिशत 102.22 लाख की धनराशि ही दिसम्बर 2020 तक खर्च हो सकी है