Home राष्ट्रीय प्रदूषण के खिलाफ केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने किया जंग का ऐलान

प्रदूषण के खिलाफ केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने किया जंग का ऐलान

नई दिल्ली। पराली जलने से प्रदूषण की समस्या को लेकर गुरुवार को दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान और उत्तर प्रदेश के पर्यावरण मंत्रियों और अधिकारियों के साथ वर्चुअल मीटिंग के बाद केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकारें इस मसले पर एकजुट होकर काम कर रहीं हैं। उन्होंने बैठक में प्रदूषण के खिलाफ जंग तेज करने का एलान किया। केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने गुरुवार को बुलाई बैठक खत्म होने के बाद प्रेस कांफ्रेंस कर बताया कि आईसीएआर पूसा संस्था के द्वारा डीकंपोजर का नया शोध किया है।

इसका भी ट्रायल सभी राज्यों में इस साल होगा। ट्रायल होने पर परिणाम आएंगे। अगले साल और बेहतर परिणाम मिलेगा। उन्होंने प्रदूषण रोकने के लिए बायो सीएनजी और बायो पॉवर के प्रयोग की भी जानकारी दी। प्रकाश जावडेकर ने बताया कि पेरीफेरल एक्सप्रेस-वे तैयार होने से अब हजारों वाहनों को दिल्ली से गुजरने की जरूरत नहीं पड़ती। जिससे प्रदूषण की समस्या कम हुई है। वेस्ट मैनेजमेंट की नई व्यवस्था पर भी जोर दिया जा रहा है।

राज्यों के पर्यावरण मंत्रियों और अफसरों के साथ करीब डेढ़ घंटे यह वर्चुअल बैठक चली। सभी राज्यों ने अपने-अपने एक्शन प्लान इस दौरान साझा किए। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने बताया कि पराली जलाने की समस्या से निपटने के लिए केंद्र सरकार ने सभी राज्यों को मशीनें दीं हैं, जिसका इस बार ट्रायल होगा। ईंट-भट्टे और कल-कारखानों में तकनीक के इस्तेमाल से स्वरूप बदला है। जिससे प्रदूषण की समस्या कम हो रही है।

केंद्रीय मंत्री ने बताया कि दिल्ली में बदरपुर का पॉवर प्लांट बंद होने से भी प्रदूषण में कमी आई है। उन्होंने कहा, केंद्र ने बहुत सारे उपाय किए है। जिससे हवा की गुणवत्ता बढ़ी है। लेकिन हवा को और शुद्ध करने की जरूरत है। आज हुई बैठक बहुत सकारात्मक रही। कई तरह के सुझाव सामने आए हैं।

केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री जावडेकर ने बताया कि प्रदूषण के खिलाफ जंग चलती रहेगी। कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने लोगों से भी प्रदूषण के खिलाफ जंग में भागीदारी निभाने की अपील की। उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि वे कम दूरी के लिए पैदल या साइकिल का इस्तेमाल करें। गाड़ी की फिटनेश हमेशा दुरुस्त रखें। संकरे रास्तों में जाने से बचें। अगर लोग सावधानियां बरतेंगे तो प्रदूषण से और अच्छे तरीके से निपटने में आसानी होगी।