Home मनोरंजन टाइगर श्राफ का देश के पहले सर्वेयर नैन सिंह पर बन रही...

टाइगर श्राफ का देश के पहले सर्वेयर नैन सिंह पर बन रही फिल्म से बायोपिक डेब्यू

देहरादून। तिब्बत को पैदल नापने और वहां का नक्शा तैयार करने वाले भारत के पहले सर्वेयर नैन सिंह रावत जल्द बड़े पर्दे पर नजर आएंगे। हिमालय पुत्र पंडित नैन सिंह रावत की कहानी के जरिये अभिनेता टाइगर श्राफ बायोपिक डेब्यू करने जा रहे हैं। निर्देशक अहमद खान ने उन्हें फिल्म ऑफर की है। बताया जा रहा कि टाइगर को भी फिल्म की कहानी काफी पसंद आई है। 16 नवंबर से फिल्म की लोकेशन के लिए तलाश शुरू की जाएगी।

पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने निर्देशक अहमद खान को नैन सिंह रावत के बारे में बताया था। अहमद खान को कहानी काफी पसंद आई और उन्होंने इस पर फिल्म बनाने का निर्णय लिया। बताया जा रहा कि नैन सिंह के परिवार से फिल्म के राइट्स लेने की प्रक्रिया चल रही है। उम्मीद है कि पहाड़ से जुड़ी शख्सियत पर बन रही इस फिल्म की अधिकांश शूटिंग भी उत्तराखंड में ही होगी।

दुनिया को बताया तिब्बत का भूगोल 

नैन सिंह रावत का जन्म पिथौरागढ़ जिले की मुनस्यारी तहसील के मिलम गांव में हुआ था। पिता का हाथ बंटाने के लिए नैन सिंह ने बचपन से व्यापार के लिए उनके साथ तिब्बत जाना शुरू कर दिया था। वह दुनिया के पहले ऐसे मानचित्रकार एवं सर्वेयर कहे जाते हैं, जिन्होंने दुनिया को तिब्बत का भूगोल बताया। उन्होंने दुनिया में सबसे पहले ल्हासा की समुद्रतल से ऊंचाई नापी। साथ ही ल्हासा के अक्षांश और देशांतर की भी गणना की। उनकी उपलब्धि पर डाक विभाग ने 139 साल बाद 27 जून 2004 को डाक टिकट जारी किया था।

घूमने के शौकीन थे नैन सिंह

ब्रिटिश भारत के दौरान अंग्रेजों ने गुप्त रूप से तिब्बत और रूस के दक्षिणी भाग के सर्वेक्षण की योजना बनाई। इस कार्य के लिए नैन सिंह का नाम सुझाया गया। अंग्रेजों ने उन्हें नाप-जोख का कार्य सौंपा। उन्हें ब्रह्मपुत्र घाटी से लेकर यारकंद इलाके तक की नाप-जोख करनी थी। इस अभियान में उनके भाई किशन सिंह रावत के अलावा पांच अन्य लोग शामिल किए गए।

तिब्बती लामा का वेश किया था धारण 

गुप्त रूप से होने वाले तिब्बत के सर्वे के लिए नैन सिंह ने तिब्बती लामा का वेश धारण किया। उपकरणों के अभाव में तिब्बत को नापने के लिए उन्होंने अनूठा तरीका अपनाया। उन्होंनेपैरों में 33 इंच की रस्सी बांधी, ताकि उनके कदम एक निश्चित दूरी पर ही पड़ें। बताया जाता है कि इसके लिए उन्होंने देहरादून में काफी अभ्यास भी किया था। वो अपनी गणनाओं को कविताओं में याद रखते थे।

पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज का कहना है कि महान सर्वेयर नैन सिंह रावत की कहानी को बॉलीवुड को काफी पसंद आई। उम्मीद है कि जल्द इस पर फिल्म बनेगी और भारत की इस महान शख्सियत से देश-दुनिया के लोग रूबरू हो सकेंगे। इससे उत्तराखंड में पर्यटन को भी नई ऊर्जा मिलेगी।