Cabinet में अब है सर्वाधिक 11 महिलाएं, जानिए कौन है।

k

नई दिल्ली: बुधवार को मोदी टीम ने 7 महिला सांसदों को मंत्री बनाया है। सात साल में अब महिला मंत्रियों की संख्या सर्वाधिक 11 हो गई है। सबकी अपनी खासियत है। कोई पूर्व नौकरशाह तो कोई एमबीबीएस डॉक्टर है।

अनुप्रिया सिंह पटेल
लोकसभा सांसद, मिर्जापुर, यूपी (दूसरी बार सांसद)

  • पूर्व में स्वास्थ्य व परिवार कल्याण राज्यमंत्री रहीं। अब वाणिज्य एवं उद्योग राज्यमंत्री।
  • सियासी जीवन शुरू करने से पहले एमिटी विश्वविद्यालय में प्रोफेसर 2014 में मिर्जापुर के सांसद बनीं। मनोविज्ञान की छात्रा रही हैं। पिता सोनेलाल पटेल की विरासत संभाल रही अनुप्रिया यूपी की जातिवादी राजनीति से अच्छी तरह वाकिफ हैं।

शोभा करंदलाजे 
लोकसभा सांसद, उडुपी (दूसरी बार सांसद)

  • कर्नाटक में विधायक और एमएलसी रहीं। अब कृषि व कृषक कल्याण राज्यमंत्री।
  • कम उम्र में आरएसएस में शामिल हुईं। कई वर्षों तक संघ के लिए काम किया। 1994 में अपना राजनीतिक जीवन शुरू किया। शोभा को बीएस येदियुरप्पा ने पहली बार भाजपा सरकार में मंत्री बनाया। ग्रामीण विकास जैसे विभाग संभाले।

अन्नपूर्णा देवी, लोकसभा सांसद, कोडरमा, झारखंड

  • झारखंड सरकार में कैबिनेट मंत्री रहीं। सिंचाई, महिला व बालकल्याण विभाग संभाले। 2019 में भाजपा में शामिल। अब केंद्र में शिक्षा राज्यमंत्री।

प्रतिमा भौमिक
लोकसभा सांसद, त्रिपुरा पश्चिम

  • छोटे किसान परिवार से जुड़ी हैं। जीव विज्ञान में स्नातक। पहली बार त्रिपुरा को केंद्र में जगह। अब सामाजिक न्याय अधिकारिता राज्यमंत्री।

डॉ भारती प्रवीण पवार 
लोकसभा सांसद डिंडोरी (एमबीबीएस)

  • नासिक जिला परिषद सदस्य रहीं। पहले एनसीपी में थीं। कुपोषण, पेयजल पर खूब काम किया। अब स्वास्थ्य राज्य व परिवार कल्याण राज्यमंत्री।

दर्शना विक्रम जरदोश 
लोकसभा सांसद, सूरत (तीसरी बार सांसद)

  • सूरत नगर निगम के पार्षद रहीं। गुजरात समाज कल्याण बोर्ड की सदस्य भी।
  • पार्षद के तौर पर काफी सक्रिय रहीं। अब कपड़ा व रेल राज्य मंत्री।
  • चार दशकों से सार्वजनिक जीवन में हैं। संगीत और अरंगेतराम में विशारद।
  • वाणिज्य में स्नातक दर्शना विक्रम जरदोश कला और सांस्कृतिक संगठन ‘संस्कृति’ की निदेशक भी हैं।

मीनाक्षी लेखी
लोकसभा सांसद, नई दिल्ली (दूसरी बार सांसद)

  • सुप्रीम कोर्ट की नामी वकील हैं। अब विदेश व सांस्कृतिक राज्य मंत्री की जिम्मेदारी।
  • बतौर अधिवक्ता महिला मुद्दों खासतौर पर घरेलू हिंसा पर काम। महिलाओं के लिए सेना में स्थायी कमीशन का सुप्रीम कोर्ट निशुल्क केस लड़ा।
  • राफेल डील मामले को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर अदालत की अवमानना का मुकदमा किया था।

Share this story