आई एस आई एस के मुखपत्र पर हिन्दू समाज का मौन विनाशकारी सिद्ध होगा-महामंडलेश्वर स्वामी नरसिंहानंद गिरी जी

राजसत्ता पोस्ट न्यूज़ पोर्टल

आई एस आई एस के मुखपत्र पर हिन्दू समाज का मौन विनाशकारी सिद्ध होगा-महामंडलेश्वर स्वामी नरसिंहानंद गिरी जी

संत और समाज के समन्वय के लिये 18 और 19 दिसम्बर 2021 को हरिद्वार में आयोजित होगा धर्म संसद

हरिद्वार।आज श्रीपंचदशनाम जूना अखाड़ा के महामंडलेश्वर स्वामी नरसिंहानंद गिरी जी महाराज,स्वामी अमृतानंद जी महाराज व श्रीपरशुराम अखाड़ा के अध्यक्ष पण्डित अधीर कौशिक जी ने आई एस आई एस के भारत के मुखपत्र वॉइस ऑफ हिन्द के कवर पेज पर मुरुदेश्वर महादेव की प्रतिमा को क्षत विक्षत दिखाने और प्रतिमा के शीर्ष आई एस आई एस के झंडे को दिखाने को लेकर आज भूपतवाला स्थित वेद निकेतन धाम में सन्यासियों के साथ एक बैठक की।


बैठक को सम्बोधित करते हुए महामंडलेश्वर स्वामी नरसिंहानंद गिरी जी ने कहा कि आई एस आई एस ने वॉइस ऑफ हिन्द के कवर पृष्ठ पर दुनिया की विशालतम प्रतिमाओं में से एक मुरुदेश्वर महादेव की प्रतिमा को खंडित दिखाकर और प्रतिमा के शीर्ष पर आई एस आई एस का झंडा दिखाकर अपने घृणित इरादों को बहुत मजबूत तरीके से सम्पूर्ण विश्व के सामने रखा है।इस्लाम का उदय ही निर्दोष लोगो की हत्या करके उनकी औरतों को लूटने और सम्पत्ति को कब्जाने के लिए हुआ है।मोहम्मद ने अपनी बर्बरता की शुरुआत ही अपने पूर्वजों के मन्दिर को नष्ट करके की थी।आज भी मोहम्मद के अनुयायी पूरी दुनिया मे गैर मुस्लिमों के धर्मस्थलों को नष्ट कर रहे हैं।उन्होंने अपनी धर्म पुस्तक कुरान और हदीसो में इसकी स्पष्ट घोषणा कर रखी है।सच तो ये है कि मोहम्मदवादी अल्लाह के अलावा किसी के भगवान को सम्मान योग्य और मोहम्मदवादीयो के अलावा किसी भी मानव को जिंदा रहने के योग्य मानते ही नहीं है।आई एस आई एस अरब में और सारी दुनिया मे जो कर रहा है,वही असली इस्लाम है।वस्तुतः मोहम्मदवादी आई एस आई एस,तालिबान,अलकायदा या अन्य किसी संगठन के द्वारा सच में वो ही कर रहे हैं जो इस्लाम उन्हें करने का आदेश देता है।अतः वो जो कर रहे हैं, उनके हिसाब से वो बिल्कुल सही कर रहे हैं।मोहम्मदवादी के रूप में ये ही उनका कर्तव्य है।आज सारी गलती हिन्दुओ की है जो पिछले 1400 साल से इन बर्बरों के शिकार होकर अपनी देवप्रतिमाओ और मठ मंदिरों को तुड़वा रहे हैं, अपनी औरतों की मंडी लगवा रहे हैं,अपनी संतानों का निर्ममता पूर्ण तरीके से कत्ल करवा रहे हैं।हम हिन्दुओ की कायरता के कारण सोमनाथ महादेव, काशी विश्वनाथ, श्री रामजन्म भूमि,श्रीकृष्ण जन्मभूमि सहित हमारे लाखो मठ मन्दिर तोड़ दिए।आज मुरुदेश्वर महादेव की विशाल प्रतिमा को तोड़ने का संकेत देकर मोहम्मदवादीयो ने स्पष्ट बता दिया है कि वो हिन्दुओ के सर्वनाश के लिए कृतसंकल्पित हैं।इतनी बड़ी घटना पर हिन्दू समाज का मौन विनाशकारी सिद्ध होगा।
उन्होंने यह भी कहा कि आई एस आई एस के इस कुकृत्य का किसी भी मोहम्मदवादी ने विरोध नहीं किया है।इसका अर्थ है कि उन सभी की मौन स्वीकृति आई एस आई एस के इस कुत्सित लक्ष्य को है और ये सभी एक ही हैं।अब हम सभी को इनकी सच्चाई को समझ कर अपने अस्तित्व के लिये लड़ना ही होगा।
बैठक में स्वामी अमृतानंद जी ने कहा कि अब हमारे धैर्य की सभी सीमाएं टूट चुकी हैं।।मोहम्मदवादी अब हमें भी अपने जैसा बनने के लिये मजबूर कर रहे हैं।ये परिस्थिति बहुत निराशाजनक हैं और ये परिस्थिति की हिन्दुओ को अंतिम लड़ाई के लिए मजबूर कर रही हैं।अब कोई भी हिन्दुओ को कमजोर न समझे।हम सनातन धर्म और अपने भगवान के अस्तित्व और सम्मान से कोई समझौता नहीं करेंगे।
बैठक में श्रीपरशुराम अखाड़ा के अध्यक्ष पण्डित अधीर कौशिक जी ने कहा कि अब हिन्दुओ का धैर्य टूट चुका है।एक तरफ तो ये मोहम्मदवादी जरा जरा सी बातों पर निर्दोषो का सर काटने पर उतारू हो जाते हैं और दुसरी तरफ दूसरे धर्मों के मठ मंदिरों और पूजा स्थलों को तोड़ने के लिये सदैव तैयारी करते रहते हैं।
बैठक में महामंडलेश्वर स्वामी नरसिंहानंद गिरी जी ने बताया कि इसी माह की दिनांक 18 और 19 को हरिद्वार में अपने अस्तित्व की रक्षा के लिए संत और समाज के समन्वय हेतु धर्म संसद का आयोजन किया जा रहा है।धर्म संसद में सनातन धर्म के सभी सम्प्रदायो के धर्मगुरुओं सहित देश के सभी हिन्दू संगठनों के कार्यकताओ को आमंत्रित किया जाएगा ताकि आने वाले भयानक इस्लामिक जिहाद के खतरे का सामना संगठित रूप से किया जा सके।
बैठक में वेद निकेतन धाम से साध्वी अमृता भारती जी,स्वामी ललितानंद जी,स्वामी परमानंद जी,स्वामी विश्वा पुरी जी, स्वामी पवनकृष्ण जी तथा अन्य संत उपस्थित थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.