Home उत्तर प्रदेश ‘गांव की बेटी, सबकी बेटी’ नारा फिर से गूंजे : सीएम योगी

‘गांव की बेटी, सबकी बेटी’ नारा फिर से गूंजे : सीएम योगी

लखनऊ। वक्त के साथ जो सामाजिक संस्कार कहीं खो गया, उसे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ फिर दिलों में जिंदा करना चाहते हैं। महिलाओं की सुरक्षा-सम्मान के लिए मिशन शक्ति और ऑपरेशन शक्ति में पुलिस का डंडा चलेगा, लोगों को जागरूक करने का प्रयास होगा। इसके साथ ही बड़ा संदेश सीएम योगी ने दिया है कि ‘गांव की बेटी, सबकी बेटी’ वाला भाव फिर लोगों में पैदा हो। सरकार के प्रयासों की सफलता के लिए उन्होंने महिलाओं से भी सहयोग मांगा है।

मिशन शक्ति के दूसरे दिन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने सरकारी आवास से महिला जनप्रतिनिधि जैसे ग्राम प्रधान, बीडीसी सदस्यों, ब्लॉक प्रमुखों, पार्षदों, नगर निकाय अध्यक्षों के अलावा शिक्षिकाओं से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये बात की। सभी से उनके क्षेत्र और कार्यों की जानकारी लेने के साथ ही सीएम योगी ने कहा कि बदलते दौर में एक बार फिर ‘गांव की बेटी, सबकी बेटी’ के भाव को जगाने की जरूरत है। यह हमारी संस्कृति और संस्कार हैं। गांव से लेकर महानगरों तक इसकी गूंज होनी चाहिए। महिला सुरक्षा व सम्मान को सुनिश्चित करने के साथ-साथ स्वावलंबन के लिए केंद्र व राज्य सरकार सतत प्रयास कर रही है, लेकिन पूरी सफलता महिलाओं के सहयोग और जागरुकता से ही मिल सकेगी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने महिला जनप्रतिनिधियों के प्रगतिशील और सकारात्मक सोच व प्रयासों की तारीफ करते हुए कहा कि प्रदेश की विभिन्न ग्राम पंचायतों और नगरीय निकायों में महिला जनप्रतिनिधियों की जागरुकता ने कई क्षेत्रों का कायाकल्प किया है। महिलाओं की सुरक्षा, सम्मान और स्वावलंबन के लिए सरकारों का प्रयास तभी सफल होगा, जब स्वयं महिलाएं जागरूक होंगी। अगर जनप्रतिनिधि जागरूक न हो तो यह योजनाएं भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ कर दम तोड़ देती हैं।

सीएम योगी ने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा, सम्मान और स्वावलंबन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ का संदेश दिया है। एक पढ़ी-लिखी बेटी, सुरक्षित भी होती है, सम्मानित भी होती है और स्वावलंबी भी होती है।

प्रेरक है महिला जनप्रतिनिधियों की पहल : चर्चा के दौरान महिला जनप्रतिनिधियों ने अपने काम मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बताए। नकटी देई कप्तान गंज बस्ती की प्रधान वर्षा सिंह अपने अच्छे काम के लिए रानी लक्ष्मीबाई सम्मान और सीएम प्रोत्साहन पुरस्कार से सम्मानित हैं तो चंदवारा बाराबंकी की ग्राम प्रधान प्रकाशिनि जायसवाल ने अपने क्षेत्र में किशोरी साइकिल बैंक का अभिनव प्रयास किया है। ग्राम कोठी, बाराबंकी की प्रधान मेहजबीन ने मुख्यमंत्री को बताया कि उनके द्वारा गांव की बैठक में बेटियों-महिलाओं के प्रति सम्मान का भाव जगाने के लिए काउंसिलिंग कराई जाती है तो बिजनौर की तैमूरपुर, दीया मोहम्मदपुर देवमल गांव की प्रधान संजू रानी जैविक खेती कर लोगों को प्रेरित कर रहीं हैं। योगी ने सभी के प्रयासों की सराहना की और कहा कि शिक्षित, सशक्त और स्वावलंबी महिलाएं किसी भी समाज की उन्नति का आधार हैं।

बलिया के नाम से लगने लगा डर : इन दिनों बलिया का गोलीकांड चर्चा में है। संवाद कार्यक्रम में जैसे ही बलिया की एक जनप्रतिनिधि ने अपना परिचय दिया तो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना का जिक्र किए बिना ही कहा कि अब तो बलिया का नाम लेते ही डर लगता है। इस पर सभी ने ठहाका मारा।