चीन के कुकर्मों और अवैध निर्माण का परिणाम नदी ने बदला रंग, जल प्रजाति नष्ट।

खबरे सुने

अरुणाचल में कामेंग नदी का पानी रंग बदलने लगा और काला हो गया । जैसे ही ये पानी काला हुआ लोगों को लगा ये अचानक क्या हो गया है।अचानक नदी का पानी काला कैसे हो सकता है?तो हम आपको बता दें जिला मत्स्य पालन अधिकारी की तरफ से पता चला कि कुल घुलित पदार्थों की उच्च सामग्री के कारण नदी का पानी काला हो गया है।
बता दें ज्यादातर अधिकारियों का कहना है कि TDS (Total Dissolved Solid) पानी में बढ़ा हुआ था। इसी वजह से पानी का रंग भी काला पड़ (kameng River News) गया। अहम बात ये है कि टीडीएस बढ़ने के कारण जल के प्रजातियों के लिए पानी प्रदूषित हो गया। साथ ही उनको सांस लेने में भी दिक्कत हुई। जिससे उनकी मृत्यु हो गई।
दरअसल, कामेंग नदी से पहले 2017 में सियांग नदी में भी इसी तरह से काला पानी हुई था। अब कामेंग नदी का पानी काला होने के पीछे लोग चीन की साजिश बता रहे हैं। आरोप ये लगाए जा रहे है कि इलाकों में चीन की निर्माण गतिविधियां तेज हो गई हैं। हालांकि चीन ने इस आरोप का खंडन कर दिया है। इस मामले को लेकर कांग्रेस सांसद निनॉन्ग एरिंग ने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर उनके हस्तक्षेप की मांग करते हुए दावा किया कि ये चीन में 10,000 किलोमीटर लंबी सुरंग के निर्माण का परिणाम था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.