सरायअकिल की घटना ने पकड़ा तूल, मामला सीएम के संज्ञान में आते ही कार्यवाही शुरू ।

खबरे सुने

उत्तर प्रदेश : जूलूस निकालने के दौरान हुई अप्रिय घटना, जरा सी गल्ती पर हो गया संग्राम, सरायअकिल में बारावफात पर निकाले गए जुलूस के दौरान रामलीला के मंच पर हरा झंडा लहराने के मामले ने तूल पकड़ लिया है। मामला मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के संज्ञान में आने के बाद सरायअकिल पुलिस ने बवाल करने वालों की तलाश में तबाड़तोड़ छापा मारना शुरू कर दिया है। मामले में अब तक दस लोग गिरफ्तार भी किए जा चुके हैं।
बारावफात पर निकले जुलूस के दौरान सरायअकिल में रामलीला के मंच पर हरा झंडा लहराने के बाद एक पक्ष ने कोतवाली का घेराव कर जमकर बवाल किया था। रात को ही घटना की जानकारी होने पर चायल विधायक संजय गुप्ता मौके पर पहुंचे उनके हस्तक्षेप के बाद पुलिस ने रामलीला कमेटी के अध्यक्ष गोपाल जी केसरवानी की तहरीर पर बवाल करने वाले एक हजार लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया। इस प्रकरण को लेकर विधायक संजय कुमार गुप्ता बृहस्पतिवार को लखनऊ पहुंचे।
वहां उन्होंने जिले की मीडिया में प्रकाशित खबरों को दिखाते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व अपर मुख्य सचिव गृह अवनीस अवस्थी से मुलाकात की। मामले को मुख्यमंत्री ने संज्ञान में लिया है। मुख्यमंत्री के संज्ञान में मामला आने के बाद बृहस्पतिवार से पुलिस ने ताबड़तोड़ छापा मारना शुरू कर दिया है। बुधवार को पुलिस ने सरायअकिल के मो. आमिन, मो. इदरीस, मो. जमील, रज्जब अली, गुलाम हुसैन, अमीर अहमद, हियात उल्ला, अहमद अली, असकुर रहमान, और इकराम उल्ला को गिरफ्तार कर लिया। बृहस्पतिवार को खुद जिलाधिकारी सुजीत कुमार व एसपी राधेश्याम सरायअकिल कस्बा पहुंचे और वहां के हालात का जायजा लिया। एसपी ने थानेदार को बाकी के आरोपियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने का निर्देश दिया है।
बस्ती में पसरा सन्नाटा
मंझनपुर। सरायअकिल कस्बे के जिस बस्ती के लोगों ने बवाल किया था वहां पर अजीब सा सन्नाटा दिख रहा है। ज्यादातर घरों में महिलाएं बुजुर्ग व बच्चे ही हैं। पुरुष घर छोड़कर भाग निकले हैं। बस्ती के लोगों का कहना है कि किसी एक की करतूत का इल्जाम पूरी बस्ती पर लगाया जा रहा है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.