Home उत्तर प्रदेश वास्तव फिल्म देख कर बनाया था फ्रैक्चर गैंग, फिल्मी तरीके से करता...

वास्तव फिल्म देख कर बनाया था फ्रैक्चर गैंग, फिल्मी तरीके से करता था अपराध

लखनऊ। प्रयागराज के चर्चित जीवन ज्योति अस्पताल के संचालक डॉ. अश्वनी कुमार बंसल हत्याकांड का स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने सोमवार को राजफाश करने का दावा किया है। एसटीएफ का कहना है कि प्रयागराज जेल में आलोक सिन्हा और कुख्यात दिलीप मिश्रा ने डॉ. अश्वनी कुमार बंसल की हत्या की साजिश रची थी। इसी जेल में बंद कुख्यात अख्तर कटरा ने तीन शूटर उपलब्ध कराए थे। एसटीएफ ने एक शूटर शोएब को लखनऊ के चिनहट इलके से गिरफ्तार कर लिया है। प्रतापगढ़ के निवासी अपराधी शोएब पर 50 हजार रुपये का इनाम घोषित था। एसटीएफ ने उसके पास से एक पिस्टल और कारतूस भी बरामद की है।

एडीजी एसटीएफ अमिताभ यश ने बताया कि प्रयागराज जेल में आलोक सिन्हा और कुख्यात दिलीप मिश्रा ने जीवन ज्योति अस्पताल के संचालक डॉ. अश्वनी कुमार बंसल की हत्या की साजिश रची थी। एक शूटर यासीर की इस घटना में शामिल मकसूद और शोएब सुपारी की रकम को लेकर हुए विवाद में पहले ही हत्या कर चुके हैं। आलोक सिन्हा ने डॉक्टर बंसल के बेटे अर्पित का न्यूरो सर्जरी में दाखिला करने के नाम पर 55 लाख रुपये हड़पे थे, जबकि दिलीप का उनसे जमीन को लेकर विवाद चल रहा था।

12 जनवरी, 2017 की शाम बेखौफ बदमाशों ने 59 वर्षीय जीवन ज्योति अस्पताल के निदेशक व प्रसिद्ध सर्जन डॉ. एके बंसल की गोली मारकर हत्या कर दी थी। उनके चैंबर में घुसकर हमलावर ने पिस्टल से तीन गोलियां चलाईं, जिसमें दो सिर में लगीं थीं। डॉ. एके बंसल जब रामबाग स्थित अस्पताल में मरीज देख रहे थे तभी पैंट-शर्ट और जैकेट पहने एक शूटर पहुंचा। उसका साथी बाहर ही रुक गया। सफेद मफलर पहने शूटर ने करीब पहुंच कर पिस्टल से ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। इससे अस्पताल में अफरा-तफरी मच गई थी। डॉक्टरों ने एके बंसल को काफी बचाने का प्रयास किया, लेकिन उनकी मौत हो गई थी।