20 नवंबर से शीतकाल के लिए बंद होंगे बद्रीनाथ धाम के कपाट, विजयदशमी के मौके पर हुई घोषणा

खबरे सुने

गोपेश्वर(चमोली): विजयादशमी पर्व पर चारों धाम के कपाट बंद होने की तिथि एवं मुहूर्त घोषित कर दिए गए। बदरीनाथ धाम के कपाट मार्गशीर्ष पांच गते यानी 20 नवंबर को वृष लग्न में शाम 6.45 बजे शीतकाल के लिए बंद किए जाएंगे। भविष्य बदरी धाम के कपाट भी बदरीनाथ धाम के साथ ही बंद होंगे। इससे पूर्व, केदारनाथ धाम के कपाट भैयादूज पर छह नवंबर को सुबह आठ बजे, यमुनोत्री धाम के कपाट इसी दिन दोपहर 12.15 बजे और गंगोत्री धाम के कपाट अन्नकूट पर्व पर पांच नवंबर को अमृत बेला में दोपहर 11.45 बजे शीतकाल के लिए बंद होंगे।

इसके अलावा चतुर्थ केदार रुद्रनाथ धाम के कपाट 17 अक्टूबर को सुबह 6.30 बजे, तृतीय केदार तुंगनाथ के कपाट 30 अक्टूबर को दोपहर 12 बजे और द्वितीय केदार मध्यमेश्वर धाम के कपाट 22 नवंबर को वृश्चिक लग्न में सुबह 8.30 बजे बंद किए जाएंगे।

बदरीनाथ धाम में शुक्रवार को मुख्य पुजारी रावल ईश्वरी प्रसाद नंबूदरी के सानिध्य में धर्माधिकारी भुवन चंद्र उनियाल एवं आचार्य वेदपाठियो ने पूजा-अर्चना व पंचांग गणना के बाद धाम के कपाट बंद करने की तिथि एवं मुहूर्त घोषित किए। धाम में कपाटबंदी के निमित्त होने वाली पंच पूजाएं 16 नवंबर से शुरू होंगी।

केदारनाथ धाम के कपाट बंद होने का मुहूर्त वेदपाठी, हक-हकूकधारी व उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड के अधिकारी-कर्मचारियों की मौजूदगी में पंचगद्दी स्थल ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ में निकाला गया। पंचगद्दी स्थल में ही द्वितीय केदार मध्यमेश्वर धाम के कपाटबंदी की तिथि व मुहूर्त भी घोषित किए। जबकि, तृतीय केदार तुंगनाथ धाम के कपाट करने की तिथि व मुहूर्त मार्कंडेय मंदिर मक्कूमठ और चतुर्थ केदार रुद्रनाथ की कपाटबंदी के तिथि व मुहूर्त गोपीनाथ मंदिर गोपेश्वर में तय हुए।

Leave A Reply

Your email address will not be published.