पप्पू यादव की नस नस से उमड़ता कांग्रेस प्रेम बता रहा है कि ये कांग्रेसिया के ही मानेंगे ।

खबरे सुने

बिहार, जाप सप्रीमों पप्पू यादव अब कांग्रेस की तरफ जाने की पुरजोर कोशिश करते नजर आ रहे हैं. लोकसभा चुनाव के बाद से ही डगमगा रही अपनी राजनीतिक गाड़ी को वो कांग्रेस के सहारे दौड़ाना चाह रहे हैं.मंगलवार को वो दरभंगा में चुनाव प्रचार के दौरान कांग्रेस के मंच पर नजर आए. यहां वो उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी अतिरेक कुमार के लिए प्रचार करने पहुंचे थे

कांग्रेस के मंच पर जगह मिलने के बाद पप्पू यादव इतने उत्साहित हो गए कि उन्होंने कह दिया कि कांग्रेस उनकी नस-नस में है. पप्पू यादव यहीं नहीं रूके उन्होंने कहा कि उनकी खून में कांग्रेस है.
उपचुनाव की फील्ड पर कांग्रेस के लिए बैटिंग करने उतरे पप्पू यादव ने लालू प्रसाद पर जमकर निशाना साधा. सोनिया गांधी को अपनी मां की तरह बताते हुए पप्पू बोले कि सोनिया गांधी ने हमेशा लालू प्रसाद का साथ दिया. ऐसे ऱिश्ते होने के बावजूद लालू प्रसाद सोनिया गांधी की नहीं हुए तो उनसे किसी और बात की उम्मीद नहीं की जा सकती है. इसके साथ ही पप्पू यादव ने कहा कि बीते समय में लालू प्रसाद को जब भी उनकी जरुरत हुई, उन्होंने उनकी मदद की. लेकिन जब उन्हें लालू प्रसाद के मदद की जरुरत थी लालू प्रसाद ने उनका साथ नहीं दिया.
इससे पहले पप्पू यादव ने लालू प्रसाद को धृतराष्ट्र बताया था और कहा था वो पुत्रमोह गलत सही का फैसला नहीं कर पा रहे हैं. साथ ही पप्पू यादन ने लालू प्रसाद के उस बयान की भी निंदा की थी जिसमें उन्होंने बिहार कांग्रेस प्रभारी भक्तचरण दास को आपत्तिजनक शब्द कहा था. तब पप्पू यादव ने कहा था लालू प्रसाद नवसामंत की तरह व्यवहार कर रहे हैं. दलित नेताओं के प्रति जो उनकी सोच है उसमे कोई बदलाव नहीं आया है. कांग्रेस के बिहार प्रभारी दलितों के बड़े नेता हैं. उनका लालू ने अपमान किया है. पप्पू यादव ने कहा उनकी पार्टी लालू प्रसाद के बयान की कड़ी निंदा करती हैं

बता दें कि पप्पू यादव के जेल से आने के बाद कांग्रेस में जाने की अटकले तेज है. जेल से आने के बाद उनके कांग्रेस में शामिल होने और तारापुर से चुनाव लड़ने की चर्चा थी. लेकिन तब पप्पू यादव ने कांग्रेस के लिए प्रचार करने की बात कही थी. इसके बाद पप्पू यादव दो बार दिल्ली की यात्रा कर चुके हैं. लेकिन उनकी कांग्रेस की टॉप लीडर के साथ बातचीत बनी ऐसी कोई खबर सामने नहीं आ रही है. कहा जा रहा है कि पप्पू यादव को कांग्रेस में बड़े स्तर पर भाव नहीं मिल रहा है. जबकि बिहार के कांग्रेस नेता चाहते हैं कि वो कांग्रेस में शामिल हों

Leave A Reply

Your email address will not be published.