Browsing Tag

होगी

विजय तुम्हारी होगी ……..

जग निर्णायक बनकर जब-जब, दोष मढ़ेगा तुम पर, शस्त्र मौन का धारण करना, विजय तुम्हारी होगी ।। साम दाम और दंड भेद, चाहे षड़यन्त्र रचे हो, तुम चलना राघव के पथ पर, विजय तुम्हारी होगी ।। मन से हारे लोगों ने ही, जीती बाज़ी हारी…