Browsing Tag

ही मुझको

चुप हूँ मैं चुप ही मुझको रहने दो

चाँद तारों की बात रहने दो तुम बहारों की बात रहने दो रोटियों से ही पेट भरता है तुम ये वादों की बात रहने दो रूह दफ़न हो जो जिस्मों में जिंदानों की बात रहने दो रौशन हौसलों से ज़िन्दगी है तुम चराग़ों की बात रहने दो मयक़दे बन्द न हुए तुझसे…