दिल्ली-महाराष्ट्र समेत कई राज्यों में टीकों का स्टॉक खत्म 
k

नई दिल्ली: हाल ही में भारत सबसे अधिक वैक्सीन की डोज लगाने वाला दुनिया का पहला देश बन गया। लेकिन अब वैक्सीन की किल्लत एक बार फिर टीकाकरण अभियान पर ग्रहण बनती नजर आ रही है। दिल्ली, महाराष्ट्र, राजस्थान और पश्चिम बंगाल समेत कई राज्यों ने वैक्सीन का स्टॉक खत्म होने की शिकायत की है। महाराष्ट्र समेत कई राज्यों में आज यानी बुधवार को वैक्सीनेशन सेंटर बंद रहे, जिसके चलते टीका लगवाने गए लोगों को निराश होकर घर लौटना पड़ा। ऐसे में गंभीर सवाल यह उठता है कि क्या कोरोना की तीसरी लहर आने की आशंका टल पाएगी?

कोरोना वैक्सीन को लेकर दिल्ली में एक बार फिर से टकराव की स्थिति देखने को मिल रही है। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने दावा किया कि वैक्सीन की सप्लाई दिल्ली में लगभग खत्म है। गुरुवार से अधिकतर वैक्सीनेशन सेंटर में वैक्सीन नहीं होगी। जब तक जुलाई का कोटा नहीं आ जाता, तब तक के लिए वैक्सीनेशन रोकना पड़ेगा।

कांग्रेस शासित राज्य पंजाब में भी वैक्सीन की किल्लत देखी जा रही है। पंजाब में कोविशील्ड टीके की कमी हो गई है। वहीं कोवाक्सिन की 1,12,821 डोज बची हैं। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने केंद्र सरकार से और वैक्सीन मुहैया करवाने की मांग दोहराई है ताकि अगले दो महीनों में 18 से 45 वर्ष की आयु वर्ग के सभी व्यक्तियों का टीकाकरण किया जा सके। बता दें कि मौजूदा समय में टीकाकरण के लिए पंजाब की योग्य आबादी के 4.8 प्रतिशत हिस्से का पूरा टीकाकरण हो चुका है और जिला मोहाली पहली और दूसरी खुराकें लगाने में अग्रणी है। 

महाराष्ट्र के नागपुर में भी वैक्सीन की कमी के चलते बुधवार को कई वैक्सीनेशन सेंटर बंद रहे। वैक्सीन लगवाने गए लोग घंटों लाइन में खड़े होकर इंतजार करते रहे। बाद में निराश होकर बिना वैक्सीन लगवाए ही लोग घर लौट गए। एक कैंसर रोगी शोभा कहती हैं, ''मैं अब भी अपनी दूसरी खुराक का इंतजार कर रही हूं। पहली खुराक लिए हुए 86 दिन बीत चुके हैं।''

Share this story