Home उत्तर प्रदेश सामाजिक संस्थाओं व अधिकारियों ने टीबी से ग्रसित 401 बच्चे लिए गोद

सामाजिक संस्थाओं व अधिकारियों ने टीबी से ग्रसित 401 बच्चे लिए गोद

रिपोर्ट-रविता

मुजफ्फरनगर। वर्ष 2025 तक देश को टीबी मुक्त बनाने के उद्देश्य से प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन के आह्वान पर क्षय रोग विभाग के प्रयास से स्वंय सेवी संस्थाओं, समाजसेवियों और कुछ सरकारी अधिकारियों ने टीबी से ग्रसित 18 साल के कम उम्र के बच्चों को गोद लिया है। जनपद में ऐसे करीब 401 बच्चों को गोद लिया गया है। यह सभी इन बच्चों के पोषण की जिम्मेदारी उठाएंगे।

जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ. लोकेश चंद्र गुप्ता ने बताया अक्टूबर माह में सामाजिक संस्था इनर व्हील ने पहल करते हुए 50 बच्चों को गोद लिया, जिसके बाद जिले में अभी तक 18 वर्ष से कम उम्र के 401 बच्चों को गोद लिया गया है। इसी क्रम में 6 नवंबर को रोटरी क्लब के द्वारा 75 बच्चों को गोद लिया जाएगा। उन्होंने बताया जिले में मार्च 2019 से अक्टूबर 2020 तक कुल 561 टीबी से ग्रसित बच्चे चिन्हित किये गये थे, जिनमें से लगातार इलाज से 298 बच्चे ठीक हो चुके हैं। 234 बच्चों का अभी इलाज चल रहा है। उन्होंने बताया जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे ने दो, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. प्रवीण चोपड़ा ने दो, एसीएमओ डॉ. वीके सिंह ने दो, समाजसेवी होती लाल शर्मा ने 30, एडीएम अमित कुमार सिंह ने 10, सामाजिक संस्था रेड क्रास सोसायटी ने 14 इसके अलावा शिक्षा विभाग बुढ़ाना के सतीश कुमार, डॉ. राजीव, इनर व्हील, रोटरी क्लब, उन्नति रोटरी क्लब, आदि सामाजिक संस्थाओं एवं जनप्रतिनिधियों ने बच्चों को गोद लिया है। यह सभी लोग न सिर्फ इन बच्चों को पोषण सहायता उपलब्ध करवा रहे हैं बल्कि बच्चों के घर जाकर उनका हालचाल भी लेते हैं। साथ ही सरकार की तरफ से इन बच्चों को 500 रुपये पोषण सहायता राशि भी दी जा रही है। साथ ही विभाग की ओर से इन बच्चों को निशुल्क दवा दी जाती है और समय-समय पर काउंसलिंग भी की जाती है, ताकि इनके इलाज में किसी भी तरह की बाधा न आए और नियमित रूप से दवा का सेवन करते रहें।