मंडला में जनजातीय गौरव समापन समारोह में ढोल बजा कर नाचे शिवराज |

खबरे सुने

मध्य प्रदेश : राजनीति भी क्या क्या सुवांग रचवाती है, और राजनेता को वैसा ही करना पड़ता है जैसी समय की मांग हो, राजनीति के मंच पर कलाकार वही अच्छा होता है मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को ऐसे ही लोगों को बीच ढोल बजाया और डांस किया.
सोमवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान प्रदेश के मंडला जिले में थे. उन्हें यहां आदिवासी समुदाय के लोगों के साथ ढोल बजाते और डांस करते हुए देखा गया. इसका वीडियो भी है. वीडियो में शिवराज सिंह चौहान ढोल बजा रहे हैं और डांस कर रहे हैं. उनके साथ कई अन्य लोग भी वीडियो में दिख रहे हैं,
जनजातीय गौरव सप्ताह के समापन समारोह को संबोधित किया
इसके अलावा चौहान ने मंडला के रामनगर में जनजातीय गौरव सप्ताह के समापन समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि उनकी सरकार नई आबकारी नीति बना रही है, जिसमें जनजातीय वर्ग पारंपरिक रूप से महुआ से शराब बना पाएगा. उन्होंने कहा कि इस हेरिटेज शराब को बेचने का अधिकार भी जनजातियों को दिया जाएगा.

उन्होंने कहा, ”एक नई आबकारी नीति आ रही है. महुअे से अगर कोई भाई-बहन परंपरागत रूप से शराब बनाता है, तो वह अवैध नहीं होगी. हेरिटेज शराब के नाम पर वह शराब की दुकानों पर भी बेची जाएगी. हम उसको भी आदिवासी आमदनी का जरिया बनाएंगे.”

आदिवासियों को मिलेगा महुआ की शराब बेचने का अधिकार
उन्होंने कहा, ”परंपराओं के निर्वाह के लिये (आदिवासी इसे) बना सकता है. अगर वह परंपरागत रूप से (महुआ की शराब) बनाता है तो बेचने का भी अधिकार उसको होगा और सरकार बाकायदा वैधानिक मान कर यह अधिकार देगी.”

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने प्रतिवर्ष 15 नवम्बर को पूरे देश में जनजातीय गौरव दिवस मनाने तथा एक सप्ताह तक जनजातीय गौरव के विभिन्न कार्यक्रम देश के कोने-कोने में आयोजित किये जाने का निर्णय लिया और भोपाल से इस अभियान की शुरूआत की.

उन्होंने कार्यक्रम स्थल से 600 करोड़ रूपये से अधिक की लागत वाले विकास कार्यों का लोकार्पण और भूमि-पूजन भी किया. उन्होंने कहा कि जनजातीय वर्ग को सामुदायिक वन प्रबंधन का अधिकार दिया जाएगा, वे जंगल लगाएंगे तथा उसकी लकड़ी एवं फल पर उनका ही अधिकार होगा.

Leave A Reply

Your email address will not be published.