Home उत्तराखंड गढ़वाल से दुखद खबर..जंगल गए 4 दोस्तों की मौत, 1 लापता

गढ़वाल से दुखद खबर..जंगल गए 4 दोस्तों की मौत, 1 लापता

नई टिहरी: भिलंगना ब्लाक के कुंडी गांव के समीपवर्ती जंगल में शिकार करने गए सात दोस्तों में से चार की संदेहास्पद परिस्थितियों में मौत हो गई। इनमें एक के शरीर पर गोली के निशान मिले हैं। तीन अन्य की जहरीले पदार्थ खाने से मौत होना बताया गया। एक अन्य युवक का अभी कुछ पता नहीं चल पाया। जबकि उनके दो साथी युवक रात गांव लौट आए। फिलहाल, मृतकों के स्वजन की तरफ से राजस्व पुलिस को कोई तहरीर नहीं मिली है।

घटना टिहरी जिला मुख्यालय से करीब 100 किलोमीटर दूर कुंडी गांव की है। यहां के सात युवक आपस में दोस्त हैं। शनिवार को उन्होंने जंगल में शिकार करने की योजना बनाई। शाम करीब सात बजे वे शिकार की तलाश में गांव के नजदीक के जंगल में गए थे, लेकिन रात तक घर नहीं लौटे। रात 10 बजे बाद स्वजन उनकी तलाश में जुटे। वे कुछ दूरी तक जंगल में भी गए, लेकिन कुछ पता नहीं चला।

इस बीच, जंगल गए सात युवकों में से दो युवक राहुल (20) और सुमित (18) रात करीब तीन बजे गांव लौट आए। इन युवकों ने गांव वालों को बताया कि वह सभी खवाड़ा गांव निवासी रज्जी के साथ शिकार करने निकले थे। पहले वह रज्जी की छानी (गौशाला) में गए। रज्जी ने वहां बंदूक रखी हुई थी। यहां से वह शिकार की तलाश में आगे बढ़े, रात करीब आठ बजे रास्ते में राजीव अचानक फिसल कर गिर गया। इसी दरम्यान बंदूक से फायर हो गया, जो संतोष को लगा। उसकी मौके पर ही मौत हो गई। इससे वह डर गए। इसके बाद वे सभी संतोष का शव लेकर दो किलोमीटर दून रज्जी की छानी में आए। छानी से लगा उसका सेब का बागीचा भी है।

राहुल और सुमित ने बताया कि इसके बाद रज्जी छानी में अनाज सुरक्षित रखने के लिए रखा कीटनाशक लेकर आया। उन दोनों को कम उम्र और घर के इकलौते होने का हवाला देकर उसने गांव वापस भेज दिया और कहा कि इसके बाद वह चारों जहर खाकर जान दे देंगे। युवकों की बात सुनकर रात में ही गांव के लोग जंगल की तरफ बढ़े। उन्हें छानी के बाहर संतोष मृत मिला, उसके शरीर पर गोली के निशान थे। कुछ ही दूरी पर पंकज ङ्क्षसह (23) और अर्जुन पंवार (23) के शव पड़े मिले। उनके मुंह से झाग निकला हुआ था। पास में सोबन ङ्क्षसह (24) बेहोश पड़ा था, जबकि रज्जी का कुछ पता नहीं चला।

घटनाक्रम की जानकारी मिलने पर राजस्व पुलिस की टीम भी मौके पर पहुंच गई। ग्रामीणों की मदद से बेहोश संतोष को निकटवर्ती सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बेलेश्वर पहुंचाया गया, जहां सुबह पांच बजे उसने भी दम तोड़ दिया। उसके मुंह से भी झाग निकल रहा था। तीनों की मौत जहरीले पदार्थ के सेवन से होना बताया जा रहा है। सातवें युवक रज्जी की खोजबीन की जा रही है। उसकी बंदूक भी नहीं मिली। एसडीएम ङ्क्षफचाराम चौहान ने बताया कि बंदूक का लाइसेंस न होना सामने आया है। अगर किसी पक्ष की तहरीर नहीं आती है तो प्रशासन खुद रज्जी के खिलाफ अवैध हथियार के इस्तेमाल और हत्या का मुकदमा दर्ज करेगा। उन्होंने बताया कि गांव लौटे युवकों की बताई कहानी के अलावा कुछ और पहलुओं से भी मामले की जांच कराई जा रही है। फिलहाल रंजिश या कोई विवाद जैसी कोई बात सामने नहीं आई है।

बिना सिम का मोबाइल मिला

एसडीएम ने बताया कि घटनास्थल यानी छानी के पास बगैर सिम का एक टूटा हुआ मोबाइल मिला है। यह रज्जी का होने को अनुमान है। इसकी जांच की जा रही है।