Home स्पेशल टीवी डिबेट बहस का विषय विचारणीय ओर उत्तेजना से नुकसान..!

टीवी डिबेट बहस का विषय विचारणीय ओर उत्तेजना से नुकसान..!

 

राजसत्ता पोस्ट

बहस का विषय विचारणीय ओर उत्तेजना से नुकसान..!

“तस्लीम बेनकाब”

पिछले दिनों एक चैनल पर एक कार्यक्रम में बहस के बाद कांग्रेस के एक नेता का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया था, संयोग से इस कार्यक्रम को हम सबने भी देखा था। कार्यक्रम के दौरान उन्होंने दो बार पानी पिया था और एक बार सीने पर हाथ भी रखा था। इससे लगता है कि उन्हें बहस के दौरान ही सीने में तकलीफ हुई थी! लेकिन शायद इस बात का आभास नहीं हुआ कि यह उनके लिए जानलेवा साबित होगी और उन्होंने उसे गंभीरता से नहीं लिया,राजीव त्यागी की ऐसी असामयिक मौत निश्चित ही विचलित करने वाली है! लेकिन उनका निधन क्या बहस में उत्तेजना के कारण बाद हुआ! यह जरूर विचारणीय है और बहस का विषय हो सकता है! बहस के दौरान दूसरे भागीदार जिस प्रकार आक्रामक थे और उन पर व्यक्तिगत आक्षेप और छींटाकशी कर रहे थे, उससे लगता है कि व काफी आहत हो गए थे!सवाल है कि इस घटना का दोष किसे दें? उस एंकर को जो बहस के लिए ऐसे विषयों को चुनते हैं और प्रवक्ताओं को उत्तेजित करते हैं और इसे टीआरपी बढ़ाने का जरिया बनाते हैं। ज्यादातर चैनलों पर होने वाली बहसों में भी लगभग ऐसा ही देखने को मिलता है!


जब टीवी चैनल नहीं थे तब भी राष्ट्रीय विषयों पर चचार्एं, परिचचार्ओं और वाद-विवादों के माध्यम से हुआ करती थीं, जिसमें हर वक्ता को एक निश्चित समय में अपने बात कहनी होती थी और फिर अंत में प्रतिस्पर्धी वक्ता की बातों को काटने या उत्तर देने का फिर से समय दिया जाता था। हर वक्ता अपनी बात पूरी शालीनता से प्रस्तुत करता था। अब क्या उसी तर्ज पर चैनलों पर बहसें नहीं की जा सकती?