Home उत्तर प्रदेश 27 विधेयक लाना, बिना चर्चा के स्वीकृत कराना, लोकतंत्र के लिए काला...

27 विधेयक लाना, बिना चर्चा के स्वीकृत कराना, लोकतंत्र के लिए काला दिन और संविधान की हत्या हैः अजय कुमार लल्लू

 

राजसत्ता पोस्ट

 

उत्तर प्रदेश विधानसभा में 27 विधेयक लाना, बिना चर्चा के स्वीकृत कराना, लोकतंत्र के लिए काला दिन और संविधान की हत्या हैः अजय कुमार लल्लू

प्रदेश की समस्या, कोरोना, रोजगार, बाढ़, घोटाले, कानून व्यवस्था, डा0 कफील खान, 69 हजार शिक्षक भर्ती, दलित-पिछड़ों के आरक्षण पर हमला, किसानों की आत्महत्या, यूरिया का संकट आदि विषयों पर चर्चा से भाग रही है सरकारः अजय कुमार लल्लू

लखनऊ, 22 अगस्त 2020
उ0प्र0 कांगे्रस कमेटी के अध्यक्ष एवं तमकुहीराज विधानसभा क्षेत्र से विधायक अजय कुमार लल्लू  ने योगी सरकार द्वारा विधानसभा में 27 विधेयक लाने और बिना चर्चा के ही स्वीकृत कराने को लोकतंत्र के लिए काला दिन और संविधान की हत्या करार दिया है। उन्होने कहा कि उ0प्र0 की तीन दिवसीय विधानसभा सत्र के दौरान योगी सरकार ने दो दिन तो कण्डोलेन्स और एक दिन में 2 घण्टे में ही सदन को समाप्त कर दिया।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि पूरा प्रदेश कोरोना महामारी के संकट को झेल रहा है। दो-दो मंत्रियों की इस गंभीर बीमारी से मृत्यु हो गयी। बाढ़ की विभीषिका को पूरा प्रदेश झेल रहा है। बंधों की सुरक्षा का कोई पुख्ता इंतजाम नहीं है। व्यापक जन-धन की हानि हो रही है। कानून व्यवस्था प्रदेश सरकार के लिए चुनौती बना हुआ है। महिलाओं की अस्मत सुरक्षित नहीं है। फिरौती, हत्या और बलात्कार योगी सरकार में इस प्रदेश की पहचान बन गया है।

अजय  लल्लू ने कहा कि जिस तरह यह सरकार राजनीतिक प्रतिद्वंदिता के चलते विपक्षी दलों की आलोचना कर रही है। तमाम पत्रकारों को, डाॅ0 कफील खान जैसे समाजसेवी तथा तमाम राजनीतिक लेागों पर फर्जी मुकदमा लादकर जेल भेजने का काम कर रही है, यह सरासर अभिव्यक्ति की आजादी पर हमला कर रही है।

उन्होने कहा कि गन्ना किसानों के बकाये गन्ने मूल्य का भुगतान नहीं हुआ। बुन्देलखण्ड में किसान आत्महत्या कर रहे हैं। 69हजार शिक्षक भर्ती में एमआरसी लागू करके दलित, पिछड़ों के अधिकार को छीनने का काम योगी सरकार कर रही है। नौजवानों के सामने रोजगार का संकट है। बेरोजगारी दर इस कदर बढ़ी है कि इस सरकार में 45 साल का रिकार्ड तोड़ दिया है।

श्री अजय कुमार लल्लू ने कहा कि डीएचएफएल घोटाला, पंचायती राज ग्रान्ट घोटाला, सहकारिता घोटाला, बिजली के मीटर का घोटाला, यूरिया की कालाबाजारी आदि इन तमाम विषयों पर हम सदन में चर्चा करना चाहते थे, पर इस सरकार ने 2 घंटे सदन को चलाकर बन्द कर दिया। यह उ0प्र0 की 23 करोड़ जनता की जनभावनाओं की आशा और आकांक्षा के खिलाफ है। सरकार ने उ0प्र0 के तमाम विषयों, मुद्दों से मुंहमोड़ तानाशाही की सारी सीमाओं को पार दिया है। कांग्रेस पार्टी ने इन मुद्दों को लेकर विधानसभा के अन्दर धरना दिया और विधानसभा के बाहर भी धरना दिया।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस पार्टी इन विषयों, मुद्दों को लेकर सड़क से लेकर सदन तक संघर्ष जारी रखेगी।