Home कोविड 19 कोविड-19 के कम्युनिटी स्प्रेड को रोकने में लगाये जाए संसाधन-डॉ स्वाति मिश्रा

कोविड-19 के कम्युनिटी स्प्रेड को रोकने में लगाये जाए संसाधन-डॉ स्वाति मिश्रा

कोविड पेनेडेमिक की स्थिति आज भारतवर्ष में सबसे ज्यादा चिंता जनक है ऐसा क्यों यह प्रश्न मेरे ख्याल से आज हर भारतवासी के मन में होगा मेरे ख्याल से इसका सबसे बड़ा कारण है हमारी सरकार की लापरवाही जो वक़्त और सामाजिक पैसा उन्हें कोविड पेनडेमिक के दूसरे स्ट्रेन से लड़ने के लिए तैयारी करने में लगाना चाहिए था वह पैसा उन्होंने अपनी राजनीतिक रैलियों और कुंभ मैं बर्बाद कर दिया

कुंभ तो फिर भी धर्म से जुड़ा हुआ है लेकिन राजनीतिक रैलियों का इस वक्त कोई मतलब नहीं था यह वक्त हमें भगवान ने दिया था कि हम covid के दूसरे स्ट्रेन से लड़ने के लिए अपने आपको तैयार कर पाए पिछले साल मोदी सरकार ने बहुत अच्छे और संतोषजनक प्रयास किए जिसके कारण हम covid के फर्स्ट ट्रेन से लड़ पाए और वक्त रहते लॉक डाउन करके उन्होंने एक अच्छे नेता का उदाहरण दिया बाकी भी बहुत से अच्छे काम भाजपा सरकार ने आज तक किए परंतु जो प्रेजेंट सिनेरियो है आज की जो सिचुएशन है उसमें यह कहीं ना कहीं अपनी उस अच्छाई को खो बैठे हैं जिसके लिए लोग इनकी प्रशंसा करते नहीं थकते थे, फिर भी अभी भी वक्त है जो स्प्रेड हो चुका है भारतवर्ष में उसे रोकने के लिए ज्यादा से ज्यादा वक्त और सॉल्यूशंस निकाले जाएं भारत जैसे देश में ऑक्सीजन की कमी होना अपने आप में अविश्वसनीय है आम इंसान यह मानने को तैयार नहीं हो सकता कि भारतवर्ष में भी कभी ऑक्सीजन की कमी हो सकती है जहां प्रचुर मात्रा में atmospheric ऑक्सीजन उपलब्ध है आज प्रश्न यह उठता है कि यह स्थिति आई क्यों यह स्थिति इसलिए आई क्योंकि जानते बुझते हुए भी कि कोई भी वायरस है तो उसका सेकंड स्ट्रेन आएगा ही हमने हमारी सरकार ने कोई तैयारी नहीं की उससे लड़ने के लिए पर आज के समय में हम किसी एक को दोष नहीं दे सकते दोषी हम भी कम नहीं हैं क्योंकि हम प्रिकॉशन नहीं लेना चाहते हम गाइडलाइंस के अनुसार चलना नहीं चाहते यह हम भारत वासियों में भी बहुत बड़ी कमी है इसके साथ ही एक मनोवैज्ञानिक होने के नाते मैं यह कहना चाहूंगी कि जो लोग घर में हैं घर में ही सेव है बाहर बेवजह घूमने की कोशिश ना करें बहुत ज्यादा जरूरी काम हो तभी बाहर निकले और एक डॉक्टर की सलाह यह है कि घर में 500 एमजी की Azithromycin टेबलेट हमेशा रखें इसके साथ ही zincovit मल्टी विटामिन भी रखें जिससे जो बड़े बूढ़े और बच्चे हैं उनको विटामिंस और मिनरल्स की कमी ना हो और गले में हल्की सी खराश हल्का सा बुखार सिर दर्द या कुछ भी महसूस हो तो तुरंत बच्चों को 250 एमजी की Azithromycin जो कि सिपला में Azicip के नाम से आती है और बड़ों को 500 एम जी की 3 दिन रात को गर्म पानी या गर्म दूध से देते रहे अगर फिर भी रिलीफ ना मिले तो 5 दिन दे अगर 5 दिन देने के बाद भी बुखार रहता है तो ब्लड टेस्ट कराएं क्योंकि ऐसा भी हो सकता है कि टाइफाइड या निमोनिया हो और तुरंत किसी हॉस्पिटल का रास्ता देखने पर वह पॉजिटिव निकले तो सतर्क रहने की जरूरत है आज के समय में आरटीपीसीआर रिपोर्ट भी गलत आ रही है इसलिए कुछ भी हो सकता है एंटीजन टेस्ट कराएं वह ज्यादा सही रिपोर्ट हो सकती है बहुत सतर्क रहें और अपना ख्याल रखें इस आशा के साथ की महामारी आती है बहुत ही जाने लेकर जाती है पर जाती भी जरूर है इसलिए आशावान बने रहिए दिल और दिमाग को स्वस्थ रखें…

✍️ डॉ स्वाति मिश्रा