राबड़ी देवी का पारिवारिक मदभेद से इंकार कहा, ये जेडीयू और भाजपा की लड़ाई

खबरे सुने

बिहार: पटना, लालू परिवार में दोनो भाइयों मे चल रही राजनैतिक मदभेद और लड़ाई के किसी से छुपी नही है परंतु माँ राबड़ी देवी ने इस बात से इंकार किया कल शाम दिल्ली से अचानक पटना स्थित अपने बेटे तेजप्रताप के निवास स्थान पहुँची ।कहा जा रहा है कि राबड़ी देवी को दोनों भाइयों में सुलह कराने के लिए राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने ही पटना रवाना किया था । विधानसभा की दो सीटों पर उपचुनाव को लेकर दोनों भाइयों के बीच ठनी हुई है। इससे हो रही परिवार की बेइज्जती लालू यादव और राबड़ी देवी के लिए चिंता का विषय है । जब पटना एयरपोर्ट से वो सीधे अपने बड़े बेटे तेज प्रताप यादव से मिलने उनके घर गयीं. इस दौरान उनके साथ एमएलसी सुनील सिंह भी थे. मगर यहां तेज प्रताप यादव के नहीं रहने से राबड़ी देवी की उनसे मुलाकात नहीं हो सकी. इसके बाद राबड़ी देवी अपने सरकारी आवास चली गईं. ऐसी चर्चा है कि तेज प्रताप को अपनी मां राबड़ी देवी के आने की भनक लग गई थी इसलिए वो उनके यहां आने से पहले बाहर चले गए थे. राबड़ी देवी कुछ देर तक तेज प्रताप के आवास पर उनका इंतजार करती रहीं लेकिन वो नहीं आए तो राबड़ी देवी वहां से अपने सरकारी आवास दस सर्कुलर रोड चली ं। राबड़ी ने काफी देर तक तेजप्रताप से संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन उनसे बात नहीं हो पाई ।
दिल्ली से करीब आठ महीने के बाद पटना लौटी राबड़ी देवी ने हवाई अड्डे पर मीडिया से बातचीत में अपने परिवार में लड़ाई से इन्कार किया है। पत्रकारों के सवाल पर राबड़ी ने कहा कि मेरे घर में कोई झगड़ा नहीं है। भाजपा और जदयू में लड़ाई चल रही है। दोनों सीटों पर राजद प्रत्याशियों की जीत सुनिश्चित है ।
बता दें कि लालू प्रसाद के बड़े बेटे तेजप्रताप हाल के दिनों दिए अपने कई बयानों से परिवार से नाराजगी जाहिर कर चुके हैं। उन्होंने कहा था कि लालू को दिल्ली में बंधक बनाकर रखा गया है। इसके बाद कुछ ही दिन पर राजद के स्टार प्रचारकों की सूची से उन्हें बाहर कर दिया गया। दो दिन पहले तेजस्वी ने एकबार फिर राबड़ी और मीसा के समर्थन में आकर पार्टी के खिलाफ बयान दे दिया था। उन्होंने कहा था कि मेरा नाम स्टार प्रचारकों में होता या न होता कम से कम मां और बहन का तो होना चाहिए, बिहार की महिलाएं सब याद रखेंगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.