Home कविता/शायरी प्रयास

प्रयास

निराश ना करो तुम निज मन को,
सतत निरंतर प्रयास करो,
जीवन तो है इक पथ कांटों भरा,
पुष्प उसमे भी तुम खिलाते चलो,
गर कभी हो शंका खुद पर,,
तो इतना तुम याद रखो ,
कि सफल वही हुआ ,
जो गिर के उठा ,
गिर कर उठना एक कला है,
जिसको खुद में तुम विकसित करो,
बहुत मिलेंगे राह से भटकाने वाले,
उन सब पर तुम नियंत्रण रखो,
गर लगे की राह मुश्किल है बहुत,
मंजिल काफी दूर है,
बस इक बार ध्यान धरना जीवन भर के संघर्ष का,
उन उम्मीदों का जो तुमपे टिकी हुई है,
बस इतना सोचना कि यह भी तुम्हारे जीवन का एक इम्तिहान है,
जिसमे अव्वल आना तुम्हारी योग्यता का प्रमाण है,
भूल जाओ सब बेकार की प्यार मोहब्बत की बातें,
ये सब तो सिर्फ एक भटकाव है,
मोहब्बत वही है सच्ची जो तुम्हे आगे बढ़ने का हौसला दे,
वो नही जो हर मोड़ पर तुम्हारे लिए एक नई मुसीबत खड़ी करे,
मोहब्बत वही है जो तुम्हे हिम्मत दे,
वो नही जो तुम्हारी परेशानियों को ना समझे,
इस संघर्ष भरे जीवन में सिर्फ मां बाप तुम्हारे अपने है,
बाकी सब तो ढोंग करते है अपने होने का,
तुमसे सच्ची मोहब्बत करने का,
हां , यदि तुम ज्यादा भाग्यशाली हो,
तो हो सकता है तुमने जीवन में कुछ सच्चे मित्र कमा लिए हो,
जो हर मोड़ पर तुम्हारे साथ खड़े रहते है,
पर संघर्ष तो तुम्हे अकेले करना है,
ये सब तो सिर्फ तुम्हे हिम्मत देंगे,
चाहे जैसी भी हो स्थिति जीवन में,
सिर्फ एक बात याद करना,
प्रयास करना , प्रयास करना और प्रयास करते रहना।।।

दीक्षा त्रिपाठी ✍️