Home राजनीति राजनीतिक पारा गर्म बिहार में मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर

राजनीतिक पारा गर्म बिहार में मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर

पटना । जदयू अध्यक्ष नीतीश कुमार के अगुवाई में करीब एक महीने पुरानी राजग सरकार के गठन होने के बाद से ही मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर कयास लगाए जा रहे हैं। इस बीच इसे लेकर सत्ता पक्ष पर विपक्ष निशाना भी साध रहा है। मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर राज्य का सियासी पारा भी गर्म है। हालांकि इसे लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सहयोगी पार्टी भाजपा के पाले में गेंद डाल दी है।

मुख्यमंत्री ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि भाजपा की ओर से अभी ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं आया है। भाजपा से इस मामले को लेकर अभी कोई बात नहीं हुई है।

नीतीश के इस बयान के बाद से ही बिहार की सियासत गर्म हो गई। राजद ने मुख्यमंत्री के इस बयान को लेकर जदयू और भाजपा पर निशाना साधा, वहीं भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल राजग में किसी विवाद से इनकार कर रहे हैं।

राजद नेता विजय प्रकाश ने कहा कि, “भाजपा नीतीश कुमार को चारों तरफ से घेरने में लगी है। उन्हांेने कहा कि नीतीश कुमार की पार्टी के खिलाफ भाजपा साजिश कर रही है और जदयू को 43 सीटों से 13 सीट पर लाकर छोड़ेगी।”

उन्होंने कहा, “अभी भी समय है नीतीश कुमार तेजस्वी का राज तिलक कर देश की राजनीति करें।”

बिहार में मंत्रिमंडल विस्तार पर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सांसद डॉ. संजय जायसवाल ने साफ किया है कि एनडीए में इस मसले पर कोई विवाद नहीं है। समय आने पर मंत्रिमंडल विस्तार हो जाएगा।

मंत्रिमंडल विस्तार के विवाद को लेकर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि, “मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर कोई विवाद नहीं है। राजग के सभी घटक दलों जदयू, भाजपा, हम व वीआईपी की एक राय है।”

प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा का अभी संगठनात्मक कार्यक्रम चल रहा है।

उल्लेखनीय है कि नीतीश कुमार के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के साथ ही जदयू के 6 (मुख्यमंत्री सहित), दोनों उप मुख्यमंत्रियों समेत भाजपा के 7 और हम तथा वीआईपी के 1-1 नेता ने मंत्री पद की शपथ ली थी। इसके बाद से ही लगातार मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर कयासबाजी हो रही है।