राकेश टिकैत के आंदोलन को विफल करने और लखीमपुर खीरी जाने से रोकने मे पुलिस नाकाम

खबरे सुने

लखीमपुर खीरी मे हुई घटना सेआहत घायल किसानों की मदद करने जा रहे किसान नेता राकेश टिकैत के काफिला को बरेली में पुलिस द्वारा रोकने की कोशिश विफल हो गई।
डीएम एसडीएम सब की मौजूदगी के बावजूद टिकैत का काफिला जब
फतेहगंज पश्चिमी से बड़ा बाईपास होते हुए खीरी नवाबगंज शाही के पास पहुंचा तो पुलिस ने बैरियर पर रोकने को कोशिश हुई।
काफिले ने बैरियोर तोड़ दिये। वहां जमकर हंगामा हुआ। पुलिस वालों से नोकझोंक भी हुई। लेकिन पुलिस उन्हें रोकने का साहस नहीं कर सकी। राकेश टिकैत ने कहा कि हमारा आंदोलन बिल्कुल भी हिंसक नहीं है। लगातार भारतीय किसान यूनियन हर जिले में नज़र रखे है। लखीमपुर में घटना हुई है, हम वहां जा रहे हैं। हम रुकेंगे नहीं।
रविवार रात करीब दस बजे किसान नेता राकेश टिकैत अपने समर्थकों के साथ गाड़ियों के काफिले को लेकर खीरी के लिए रवाना हुए। फतेहगंज पश्चिमी टोल प्लाजा पर पुलिस ने उन्हें रोकने की कोशिश की। लेकिन वह पुलिस को चकमा देकर निकल गए। बड़ा बाईपास होते हुए नवाबगंज पहुंचे। वायरलेस से सूचना मिलने के बाद नवाबगंज में उनकी घेराबंदी की गई। पुलिस ने रोड पर बैरियर लगा दिए।

टिकैत समर्थक किसानों ने बैरियर तोड़ डाले। इसको लेकर उनकी पुलिस अधिकारियों से नोकझोंक भी हुई। लेकिन टिकैत समर्थक किसानों ने पुलिस की एक नहीं सुनी और पीलीभीत बॉर्डर पर शाही बैरियर पर पहुंच गए। पुलिस ने रोकने की कोशिश की। वहां जमकर हंगामा हुआ। शाही ने पुलिस बैरियर तोड़ने के बाद राकेश टिकैत पीलीभीत होते हुए देर रात तक पूरनपुर आसाम रोड के जरिए खुटार खीरी के लिए रवाना हो चुके थे। पीलीभीत डीएम और एसपी बॉर्डर तक उनके पीछे गाड़ियों से थे। हालांकि इसके बाद किसी ने भी किसानों के गुस्से को देखते हुए उन्हें रोकने की कोशिश नहीं की।
एडीजी जोन अविनाश चंद्र डीएम नीतीश कुमार और एसएसपी रोहित सिंह सजवान के साथ फतेहगंज पश्चिमी टोल प्लाजा देर रात पहुंचे। उन्होंने सभी पुलिस बैरियर पर पुलिस को एक्टिव किया। किसानों को समझाने की कोशिश की हालांकि किसान खीरी के लिए निकलते चले गए। एडीजी ने पुलिस टीम के साथ नवाबगंज पीलीभीत बॉर्डर तक का जायजा लिया।
पीलीभीत। भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता लखीमपुर जाते वक्त पीलीभीत में डीएम एसपी की तमाम मनुहार के बाद भी नही रुके। डीएम एसपी ने लखीमपुर न जाने जाने का आग्रह राकेश टिकैत से किया पर उन्होंने रुकने से इनकार किया। पूरनपुर में घुँघचाहि चौराहे पर आयोजित पंचायत में पदाधिकारियों ने कहा कि ये शोक सभा है, धैर्य के साथ निर्णय लेना हैं। किसानों ने इससे पूर्व किसान नेता राकेश टिकैत का जोरदार स्वागत करते हुए अपनी संख्या बल से ताकत का एहसास कराया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.