Home अंतरराष्ट्रीय पीएम मोदी और शेख हसीना ने ‘बंगबंधु-बापू’ डिजिटल प्रदर्शनी का किया उद्घाटन

पीएम मोदी और शेख हसीना ने ‘बंगबंधु-बापू’ डिजिटल प्रदर्शनी का किया उद्घाटन

ढाका । बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना और उनके भारतीय समकक्ष नरेंद्र मोदी ने ‘बंगबंधु-बापू’ डिजिटल प्रदर्शनी का दौरा किया, जो शेख मुजीबुर रहमान और महात्मा गांधी के जीवन को याद करता है।

प्रदर्शनी में बांग्लादेश और भारत को एकजुट करने वाले खून और साझा बलिदानों केबंधन को दिखाया गया है। इसका आयोजन यहां बंगबंधु इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस सेंटर (बीआईसीसी) में किया जा रहा है।

बांग्लादेश के बाद, 17 दिसंबर, 2020 को एक आभासी शिखर सम्मेलन के दौरान हसीना और मोदी ने वर्चुअली इस प्रदर्शन का उदघाटन किया था। इसे डिस्पले के लिए संयुक्त राष्ट्र भेजा जाएगा और 2022 में कोलकाता में इसका समापन होगा।

शुक्रवार शाम को बंगबंधु की छोटी बेटी शेख के साथ दोनों नेताओं ने एक फोटो सेशन में हिस्सा लिया।

1971 के मुक्ति संग्राम के दौरान पाकिस्तानी सेना द्वारा बांग्लादेशी महिलाओं पर हुए अत्याचार, बलात्कार और बर्बर अत्याचार की तस्वीरें भी प्रदर्शनी में शामिल की गई हैं।

17 दिसंबर, 2020 से 31 जनवरी तक, नई दिल्ली के विज्ञान भवन में दो महान स्वतंत्रता सेनानियों पर अपनी तरह की पहली डिजिटल प्रदर्शनी आयोजित की गई थी।

ढाका प्रदर्शनी के क्यूरेटर बिराद राजाराम याग्निक ने हसीना और मोदी को प्रदर्शनी की जानकारी दी, जिसे दो दिनों के लिए बीआईसीसी में रहने के बाद एक महीने के लिए ढाका में शिल्पकला अकादमी स्थानांतरित कर दिया जाएगा।

बाद में, प्रदर्शनी को तीन सप्ताह के लिए सभी संभागीय शहरों में ले जाया जाएगा।

दोनों देशों के विभिन्न ऐतिहासिक घटनाओं पर तस्वीरों और डिजिटल सामग्री के अलावा, दो महान नेताओं के ऐतिहासिक उद्धरण भी प्रदर्शित किए जाएंगे।

प्रदर्शनी के रुचि के प्रमुख बिंदु एक ‘मीटिंग वॉल’ है, जिसमें रहमान और गांधी दोनों एक फ्रेम में हैं। इसमें दोनों नेताओं के हस्ताक्षर और उनके पसंदीदा संगीत का भी उल्लेख है।

गांधी का नमक मार्च और बंगबंधु के 7 मार्च 1971 को दिए ऐतिहासिक भाषण इसका मुख्य आकर्षण हैं।

अलग-अलग ऐतिहासिक घटनाओं पर बंगमाता शेख फाजिलतुनैसा मुजीब और प्रधानमंत्री शेख हसीना की तस्वीरों को भी डिजिटल रूप से प्रदर्शित किया गया है।

बंगबंधु के जन्म शताब्दी और देश की आजादी की स्वर्ण जयंती के समारोह में शामिल होने के लिए मोदी दो दिवसीय राजकीय यात्रा पर शुक्रवार को ढाका पहुंचे।

बांग्लादेश सरकार ने 17 मार्च, 2020 से 26 मार्च, 2021 तक ‘मुजीब बोरशो’ (मुजीब वर्ष) घोषित किया।

लेकिन, कोविड-19 महामारी के कारण, सरकार ने समारोहों को बढ़ाया है।