पीके की भविष्यवाणी, भाजपा जीते या हारे केंद्र से जाने वाली नही,पर दीदी का वार ।

खबरे सुने

पश्चिम बंगाल : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रशांत किशोर की हालिया टिप्पणियों से संबंधित एक सवाल का जवाब देने से इनकार कर दिया और उल्टा उनका वार उन्ही पर कर दिया है, दरअसल पीके ने कहा था कि भाजपा अगले कुछ दशकों तक भारत की राजनीति के केंद्र में रहने वाली है.प्रशांत किशोर के सवाल पूछे जाने पर बनर्जी ने शुक्रवार को संवाददाताओं से कहा, आप उनसे यह सवाल क्यों नहीं पूछते? वह बहुत कुशल व्यक्ति हैं. आप उनसे सवाल पूछ सकते हैं. आप उनका सवाल मेरे सामने रख रहे हैं.

इस समय बनर्जी गोवा में हैं, जहां उनकी पार्टी 2022 के राज्य विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए तैयार है.
प्रशांत किशोर ने बुधवार की देर रात एक आर्ट गैलरी में की गई बातचीत में कहा था कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) कई दशकों तक कहीं नहीं जाने वाली है.यह बयान ऐसे समय में आया है, जब तृणमूल बंगाल के बाहर खुद को फैला रही है और यह इस बात का भी सबूत है कि किशोर के कांग्रेस में प्रवेश किए जाने से जुड़ी अटकलें भी समाप्त हो गई हैं.

उन्होंने कहा कि भाजपा वर्षों तक भारतीय राजनीति के केंद्र में रहेगी, चाहे वह जीते या हारे, ठीक उसी तरह, जैसे आजादी के बाद के शुरुआती 40 वर्षों में कांग्रेस थी.
भाजपा भारतीय राजनीति का केंद्र बन रही
पीके के मुताबिक भाजपा भारतीय राजनीति का केंद्र बनने जा रही है. वह भले जीतें या हार जाएं, लेकिन अब वह वैसी है, जैसे कांग्रेस आजादी के बाद अपने शुरुआती 40 वर्षो के दौरान थी.

उन्होंने कहा, भाजपा कहीं नहीं जा रही है. एक बार आप राष्ट्रीय स्तर पर 30 प्रतिशत से अधिक वोट हासिल कर लेते हैं तो आप इतनी जल्दी नहीं जाते. इसलिए आप कभी भी इस वहम में न रहें कि लोग नाराज हो रहे हैं और वे (प्रधानमंत्री नरेंद्र) मोदी को उखाड़ फेंकेंगे.

किशोर से जब इस संबंध में पूछा गया तो उन्होंने कहा, हो सकता है कि वे मोदी को उखाड़ फेंके, लेकिन भाजपा कहीं नहीं जा रही. वह यहीं रहेगी. उन्हें अगले कई दशकों तक इससे लड़ना है. यह जल्दी ही जाने वाली नहीं है.
उन्होंने कहा कि राहुल गांधी के साथ समस्या यह है कि उन्हें इस बात का अहसास नहीं है, लेकिन उन्हें लगता है कि लोग भाजपा को उखाड़ फेंकेंगे.
उनकी यह टिप्पणी उन अटकलों के बीच सामने आई है, जिनमें कहा जा रहा था कि किशोर कांग्रेस में शामिल होंगे और पार्टी उनके द्वारा उठाए गए मुद्दों पर विचार-विमर्श कर रही है.

यहां तक कि पार्टी में कोई भी किशोर के कांग्रेस में शामिल होने के विचार के खिलाफ नहीं है, पार्टी नेताओं ने कहा है कि उन्हें चुनावों के संबंध में व्यापक अधिकार नहीं दिए जाने चाहिए.

Leave A Reply

Your email address will not be published.