देहरादून। चारधाम में श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ाने के लिए प्रदेश सरकार हाईकोर्ट से अनुरोध करने जा रही है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि वर्तमान में चारों धामों बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री में दर्शन के लिए निर्धारित की गई संख्या काफी कम है। कोविड प्रोटोकाल का अनुपालन करते हुए ज्यादा से ज्यादा लोग चारधाम में दर्शन कर सकें, इसके लिए तय संख्या में बढ़ोतरी आवश्यक है।

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर को देखते हुए हाईकोर्ट ने पूर्व में चारधाम यात्रा पर रोक लगा दी थी। हालांकि, सरकार ने तब इस आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने की ठानी, लेकिन बाद में सुप्रीम कोर्ट में दाखिल एसएलपी वापस ले ली गई। साथ ही कोरोना संक्रमण के मद्देनजर स्थिति नियंत्रण में आने के बाद सरकार ने फिर से हाई कोर्ट में दस्तक दी। हाईकोर्ट ने कोविड प्रोटोकाल का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित करने के साथ ही सशर्त यात्रा की अनुमति दी।

इसके बाद सरकार ने चारधाम यात्रा के लिए मानक प्रचालन कार्यविधि (एसओपी) जारी की। इसके अनुसार प्रतिदिन बदरीनाथ में 1000, केदारनाथ में 800, गंगोत्री में 600 और यमुनोत्री में 400 लोग ही दर्शन कर सकते हैं। यात्रा के लिए चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड 15 अक्टूबर तक के ई-पास जारी कर चुका है, मगर फ्लाइट व रेल टिकट उपलब्ध न होने के कारण तय संख्या में श्रद्धालु नहीं पहुंच पा रहे हैं। बुकिंग होने के कारण अन्य व्यक्तियों को अनुमति नहीं मिल पा रही है। हालांकि, अब डीएम को आफलाइन पास जारी करने की अनुमति दी गई है, लेकिन यात्रा पड़ावों पर यात्रियों का दबाव काफी अधिक है। इसे देखते हुए सरकार श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ाने का हाईकोर्ट से अनुरोध करेगी। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रविवार को भाजपा महिला मोर्चा की कार्यसमिति के उद्घाटन सत्र में यह बात कही।