पैनेसिया बायोटेक को DGCI ने SputnikV का उत्पादन करने की दी मंजूरी

k

नई दिल्ली: DGCI ने देश में Sputnik V के उत्पादन के लिए पैनेसिया बायोटेक को मंजूरी दे दी है। पैनेसिया बायोटेक ने इसकी जानकारी देते हुए  बताया कि रूसी वैक्सीन को देश में बनाने वाली वह पहली कंपनी होगी। स्पूतनिक-वी के उत्पादन के लिए छह कंपनियों ने रशियन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट फंड (आरडीआईएफ) के साथ समझौता किया है, जिनमें से एक पैनेसिया बायोटेक है।

आरडीआईएफ के साथ किए गए समझौते के तहत पैनेसिया बायोटेक अपनी हिमाचल के बद्दी में स्थित फैक्ट्री में कोरोना वैक्सीन स्पूतनिक-वी का उत्पादन करेगी। कंपनी ने स्पूतनिक-वी की पहली खेप का उत्पादन करने के बाद इस रूस के गामालेया केंद्र भेज था, जहां से वैक्सीन अपनी गुणवत्ता पर खरी उतरी, जिसके बाद रूसी दवा नियामक की ओर से हरी झंडी दी गई है। वहीं अब डीसीजीआई से उत्पादन की मंजूरी मिलने के बाद देश में बड़े स्तर पर इसका उत्पादन होगा।

आरडीआईएफ के मुख्य कार्यकारी किरिल्ल डमित्रिव ने कहा था कि पैनेसिया बायोटेक के साथ मिलकर भारत में उत्पादन की शुरुआत महामारी के खिलाफ जंग में एक अहम कदम है। उन्होंने ने कहा था कि स्पूतनिक-वी वैक्सीन का उत्पादन शुरू होने से भारत को कोरोना वायरस महामारी के संकटपूर्ण दौर से निकालने के सरकार के प्रयासों को समर्थन मिलेगा। बाद में वैक्सीन को दूसरे देशों को निर्यात भी किया जा सकेगा ताकि दुनिया के अन्य देशों में भी महामारी के प्रसार को रोका जा सके।

वैक्सीन का उत्पादन शुरू करने को लेकर पैनेसिया बायोटेक के प्रबंध निदेशक राजेश जैन ने कहा, ”आरडीआईएफ के साथ मिलकर स्पूतनिक-वी का उत्पादन शुरू होना एक महत्वपूर्ण कदम है। हम उम्मीद करते हैं कि देश में पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन का स्टॉक होगा, तो फिर तेजी से टीकाकरण होगा और लोग फिर से सामान्य स्थिति महसूस कर सकेंगे। साथ ही अन्य देशों को भी वैक्सीन की सप्लाई की जा सकेगी।”

रूस की कोरोना वैक्सीन स्पूतनिक वी को भारत में 12 अप्रैल 2021 को आपातकालीन इस्तेमाल की अनुमति के साथ पंजीकृत किया गया। इसके साथ ही कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए 14 मई से टीकाकरण अभियान में इसका इस्तेमाल भी शुरू कर दिया गया।

Share this story