Home उत्तराखंड ‘पार्टी में न बदलाव और न ही कोई सीएम का चेहरा’- सूर्यकांत...

‘पार्टी में न बदलाव और न ही कोई सीएम का चेहरा’- सूर्यकांत धस्माना

देहरादून। प्रदेश कांग्रेस कमेटी उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना ने कहा कि संगठन में न तो किसी प्रकार का फेरबदल हो रहा है और न ही पार्टी अभी किसी को मुख्यमंत्री प्रोजेक्ट करने जा रही है। पूर्व मुख्यमंत्री व कांग्रेस महासचिव हरीश रावत के नेतृत्व में 2022 का चुनाव लड़ने को लेकर दो दिन पहले उनके समर्थक नेताओं की ओर से दिए गए बयान के बाद प्रदेश संगठन की ओर से धस्माना सामने आए। सोमवार को प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि 2022 में प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बने, सभी पार्टी कार्यकर्त्‍ताओं की यही भावना होनी चाहिए। मुख्यमंत्री कौन बनेगा, इसकी चिंता पार्टी हाईकमान पर छोड़ देनी चाहिए। अभी से यह बहस छेड़कर जनता में गलत संदेश जा रहा है कि सारी चिंता मुख्यमंत्री बनने की हो रही है। धस्माना की टिप्पणी को पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत खेमे पर पलटवार के रूप में देखा जा रहा है।

धस्माना ने कहा कि इस समय पार्टी संगठन का पूरा ध्यान जनता से जुड़े अहम मुद्दों बेरोजगारी व महंगाई के खिलाफ व्यापक जन संघर्ष करने पर है। प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह इसी उद्देश्य से पूरे राज्य का दौरा कर रहे हैं। राज्य का हर वर्ग आज त्रिवेंद्र सरकार की युवा, छात्र, महिला व किसान विरोधी नीतियों से आक्रोशित है। सब कांग्रेस से उम्मीद बांधे हुए हैं। प्रीतम सिंह की पहली प्राथमिकता जन उम्मीदों के अनुरूप कांग्रेस सरकार बनाना है। उधर, इंटरनेट मीडिया पर अपनी पोस्ट में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने दिल्ली में किसानों के आंदोलन को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि पार्टी केंद्रीय कृषि बिलों के विरोध में किसानों के साथ लामबंद है।

गुटबंदी नहीं, पार्टी चुनाव को एकजुट: हरीश रावत

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि 2022 के चुनाव को लेकर कांग्रेस प्रदेश में पूरी तरह एकजुट है। चुनाव से पहले ही संगठन में वर्चस्व की जंग और गुटबंदी को लेकर मीडिया के सवालों के जवाब में पूर्व मुख्यमंत्री ने गुटबाजी से इन्कार किया। उन्होंने कहा कि पार्टी मजबूती से चुनाव लड़ेगी। चुनाव में उन्हें नेतृत्व सौंपे जाने की उनके समर्थकों की मांग के बारे में उन्होंने कहा कि ऐसी कोई बात नहीं है। उनसे जुड़े हुए व्यक्तियों की भावना का वह सम्मान करते हैं।