Home उत्तर प्रदेश खनन माफियाओं के हौसले बुलंद सिपाही पर ट्रैक्टर चढ़ा कर उतारा मौत...

खनन माफियाओं के हौसले बुलंद सिपाही पर ट्रैक्टर चढ़ा कर उतारा मौत के घाट

 

राजसत्ता पोस्ट

रविवार 8/11/2020

Breaking news

खनन माफियाओं के हौसले बुलंद सिपाही पर ट्रैक्टर चढ़ा कर उतारा मौत के घाट

ताजनगरी आगरा में जहां एक तरफ अवैध खनन को रोकने के लिए जिला पुलिस कप्तान बबलू कुमार जिला पुलिस के साथ में एक विशेष अभियान चला रहे हैं। तो वहीं ताजनगरी आगरा में अवैध खनन माफियाओं के हौसले लगातार बुलंद है। खाकी वर्दीधारी से बेखौफ खनन माफिया अवैध खनन के व्यापार को अंजाम दे रहे हैं। अवैध खनन रोकने में लगी पुलिस के साथ में खनन माफिया लगातार घटनाएं भी कारित कर रहे हैं। रविवार को ताजनगरी आगरा में एक ऐसा ही मामला सामने आया है। जहां अवैध खनन रोकने पर सिपाही के ऊपर खनन माफियाओं ने ट्रैक्टर चढ़ा दिया। जहां इलाज के दौरान सिपाही की मौत हो गई। इस घटना के बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया।। एसपी सिटी आगरा तत्काल घटनास्थल पहुंचे। अवैध खनन को रोकने में सिपाही को मौत के घाट उतारने खनन माफिया वाला ट्रैक्टर सहित फरार हो चुका है।

अब आपको पूरा घटनाक्रम बताते हैं………..

घटनाक्रम खेरागढ़ थाना क्षेत्र के सोन गांव का है। बताया जा रहा है कि खेरागढ़ थाना क्षेत्र के सोन गांव में बीती रात सोनू चौधरी नाम का सिपाही अवैध खनन को रोकने के लिए चेकिंग कर रहा था। तभी रविवार सुबह करीब 4:00 बजे अवैध खनन करा रहे ट्रेक्टर चालक ने सिपाही सोनू चौधरी पर ट्रैक्टर चढ़ा दिया। जहां उसे इलाज के लिए गंभीर अवस्था में पुष्पांजलि अस्पताल लाया गया और चिकित्सकों ने सिपाही सोनू चौधरी को मृत घोषित कर दिया।

मृतक सिपाही जनपद अलीगढ़ के टप्पल का मूल निवासी था। बताया जा रहा है कि मृतक सिपाही सोनू चौधरी 2018 बेच का सिपाही था। जिसकी पोस्टिंग ताजनगरी आगरा के खेरागढ़ थाना क्षेत्र में थी। इस घटनाक्रम के बाद एसपी सिटी आगरा रोहन पी बोत्रे ने सिपाही को मौत के घाट उतारने वाले अवैध खनन माफियाओं को चिन्हित करने के लिए इलाकाई पुलिस को दिशा-निर्देश जारी कर दिए।

घटनाक्रम के बाद इलाके में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है और सिपाही को मौत के घाट उतारने वाले खनन माफिया के खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर तत्काल प्रभाव से जेल भेजने के दिशा निर्देश पुलिस अधिकारियों ने जारी किए हैं । पर अब देखना होगा कि अवैध खनन रोकने में लगे सिपाही को मौत के घाट उतारने वाले खनन माफिया कब तक सलाखों के पीछे पहुंच पाते हैं।