उत्तराखंड में कोरोना के मद्देनजर बढ़ाई गईं पाबंदियां ; जाने

खबरे सुने

उत्तराखंड: उत्तराखंड में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामलों को देखते हुए राज्य सरकार ने कोविड प्रोटोकॉल के तहत कई पाबंदियां लागू की हैं. राज्य में सभी राजनीतिक रैलियों और धरने पर 16 जनवरी तक रोक लगा दी गई है. अगले नौ दिनों तक सभी आंगनबाडी केंद्र और स्कूल 12वीं कक्षा तक बंद रहेंगे, लेकिन ऑनलाइन कक्षाएं संचालित की जाएंगी.

राज्य में सभी तरह के सार्वजनिक समारोहों पर भी 16 जनवरी तक रोक लगा दी गई है. खुले या बंद स्थान में विवाह समारोह की क्षमता का 50 प्रतिशत ही लोगों को शामिल होने की अनुमति होगी. उत्तराखंड में प्रवेश करने के लिए जिन लोगों को कोविड वैक्सीन की दोनों खुराक नहीं मिली है, उन्हें 72 घंटे पहले कोविड निगेटिव जांच रिपोर्ट दिखानी होगी. मुख्य सचिव डॉ. एसएस संधू द्वारा शुक्रवार को जारी मानक संचालन प्रक्रिया के ये आदेश नौ जनवरी तक प्रभावी रहेंगे. कोविड कर्फ्यू का उल्लंघन करने पर आपदा प्रबंधन अधिनियम एवं महामारी अधिनियम के तहत कानूनी कार्रवाई की जायेगी.

प्रोटोकॉल तोड़ने पर होगी कड़ी कार्रवाई
सार्वजनिक स्थानों, पर्यटन स्थलों, बाजारों, बस स्टैंड, रेलवे स्टेशनों, मंडियों, शॉपिंग मॉल और अन्य भीड़-भाड़ वाले स्थानों पर सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क पहनना और हाथ सेनेटाइजेशन का सख्ती से पालन करना होगा. इसका उल्लंघन करने पर संबंधित के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

16 जनवरी तक बंद रहेगा
– प्रदेश के सभी स्वीमिंग पूल व वाटर पार्क।
12वीं तक के सभी आंगनबाडी केन्द्र एवं शिक्षण संस्थान।

पर लगाए गए प्रतिबंध
– मनोरंजन, शैक्षिक, सांस्कृतिक आदि के लिए सभी सार्वजनिक समारोह।
राजनीतिक रैलियों और हर तरह के धरना प्रदर्शनों पर।

बाजार सुबह 6 बजे से रात 10 बजे तक खुलेंगे
राज्य में सभी बाजार और व्यापारिक प्रतिष्ठान सुबह छह बजे से रात दस बजे तक खुलेंगे. रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक रात का कर्फ्यू लागू रहेगा।

50 प्रतिशत क्षमता के साथ खुलेंगे
– सभी जिम, शॉपिंग मॉल, सिनेमा हॉल, स्पा, सैलून, मनोरंजन पार्क, थिएटर, ऑडिटोरियम।
– होटलों में कॉन्फ्रेंस हॉल, स्पा और जिम।
होटल रेस्तरां, भोजनालय और ढाबे (खाद्य पदार्थों की होम डिलीवरी संभव होगी)।
खेल संस्थान, मैदान और स्टेडियम खोलने के लिए खेल विभाग एसओपी जारी करेगा।

बाहरी लोगों का प्रवेश
बाहरी राज्यों से उत्तराखंड में प्रवेश के लिए कोविड वैक्सीन की दोनों खुराकों का प्रमाण पत्र दिखाना होगा। जिनके पास यह प्रमाण पत्र नहीं है, उन्हें अधिकतम 72 घंटे पहले आरटीपीसीआर, ट्रू नेट, सीबी नेट, रैपिड एंटीजन टेस्ट कोविड नेगेटिव टेस्ट रिपोर्ट साथ लानी होगी।

उन्हें भी पालन करना होगा
सार्वजनिक स्थानों, कार्यस्थल और सार्वजनिक परिवहन में यात्रा करने वालों के लिए मास्क अनिवार्य है।
लोगों को सार्वजनिक स्थानों पर छह फीट की सामाजिक दूरी बनाए रखनी होगी।
सार्वजनिक स्थानों पर थूकना अवैध होगा। ऐसे में जुर्माना लगाया जाएगा।
सार्वजनिक स्थानों पर पान, गुटखा, तंबाकू आदि के सेवन पर प्रतिबंध रहेगा।
पूंजी बाजार में बिना मास्क के प्रवेश पर रोक
अगर आप पलटन बाजार के साथ-साथ राजधानी देहरादून के मॉल या शॉपिंग कॉम्प्लेक्स में खरीदारी करने जा रहे हैं। मास्क पहनें, नहीं तो पांच सौ रुपए जुर्माना भरना पड़ेगा। वहीं, आपको बारंग भी लौटना होगा।

जिलाधिकारी डॉ. आर. राजेश कुमार ने पलटन बाजार सहित सभी बाजारों, मॉल और शॉपिंग कॉम्प्लेक्स में पुलिसकर्मियों की तैनाती के साथ ही सभी के पास फेस मास्क सुनिश्चित करने के लिए पुलिस-प्रशासनिक अधिकारियों को सख्त निर्देश जारी किए हैं. यदि कोई व्यक्ति बिना मास्क के पकड़ा जाता है तो उसे मौके पर ही पांच सौ रुपये जुर्माना वसूल कर घर लौटा दिया जाए। जिलाधिकारी के आदेश पर पलटन बाजार की ओर जाने वाले सभी रास्तों पर भी पुलिस कर्मियों को तैनात कर दिया गया है.

वहीं, जिलाधिकारी के आदेश पर पलटन बाजार की सभी दुकानों पर नो मास्क, नो एंट्री बोर्ड भी लगाये गये हैं. जिलाधिकारी ने पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों को राजधानी के सभी चौराहों पर सघन जांच अभियान चलाने के साथ ही कार चालकों, बाइक सवार सार्वजनिक वाहनों में बिना मास्क वाले लोगों की भी पहचान करने के निर्देश दिए हैं. 100 रुपये का जुर्माना लगाया जाना चाहिए। भीड़भाड़ वाले बाजारों में सोशल डिस्टेंसिंग का भी ख्याल रखा गया. जांच के दौरान लोगों को मास्क लगाने के प्रति जागरूक करने के साथ ही कोरोना गाइडलाइंस की जानकारी दी जाए.

Leave A Reply

Your email address will not be published.