हिंदू मुस्लिम एकता नस्लीय भेदभाव ओर महिला सशक्तिकरण के पुजारी थे महात्मा गांधी:डा. अरशद सम्राट

मुज़फ़्फ़रनगर।आज 2 अक्टूबर 2022 को सम्राट इंटर कॉलेज मिमलाना रोड मुजफ्फरनगर में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी व भारत के दूसरे प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की जयंती बड़ी धूमधाम के साथ मनाई गई जिसमें सभी अध्यापक अध्यापिकाओ व विद्यार्थियों ने महात्मा गांधी जी के चित्र पर पुष्प अर्पित किए। विद्यालय के छात्र/छात्राओं के द्वारा गांधी जयंती के अवसर पर विद्यालय में देश के बलिदान में अपना बलिदान देने वाले सभी शहीदों को याद करते हुए विभिन्न प्रकार के सांस्कृतिक एवं नाटक की प्रस्तुति दी।जिसमें विद्यालय प्रधानाचार्य डॉ अरशद सम्राट ने बताया कि 2 अक्टूबर महान स्वतंत्रता सेनानी और आदर्शवादी नेता मोहनदास करमचंद गांधी की जयंती है। महात्मा गांधी, जिन्हें बापू के नाम से भी जाना जाता है, एक प्रख्यात नेता थे जिन्होंने देश की स्वतंत्रता के लिए प्रयास किया। अपनी उम्र के बावजूद, वह अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई के दौरान कई बार जेल गए। गांधी जी ने अपना पूरा जीवन देश के लिए दे दिया और अहिंसा के विचार को भारत में ब्रिटिश शासन के खिलाफ लड़ने के लिए एक हथियार के रूप में दिया। इसके अलावा, स्वतंत्रता के लिए एक अहिंसक संघर्ष में भाग लेते हुए, उन्होंने हिंदू-मुस्लिम एकता, नस्लीय भेदभाव, अस्पृश्यता और महिला सशक्तिकरण के लिए लड़ाई लड़ी। उन्होंने एक सादा जीवन व्यतीत किया लेकिन अपने देश को कभी नहीं छोड़ा। 30 जनवरी 1948 को नाथूराम गोडसे ने उनकी निर्दयता से हत्या कर दी थी। आज स्वतंत्र भारत उन्हें और उनके बलिदानों को याद करता है और हमारे भीतर उनकी शिक्षाओं, नैतिकता, मूल्यों, सच्चे विश्वासों और अहिंसा के लिए हमेशा आभारी है। भारत के दूसरे प्रधानमंत्री ने लाल बहादुर शास्त्री यह कभी भारत को आजाद कराने में गांधी जी के साथ महत्वपूर्ण योगदान रहा है लाल बहादुर शास्त्री ने जय जवान जय किसान का नारा दिया। इस मोके पर विद्यालय प्रधानाचार्य डॉ अरशद सम्राट विद्यालय स्टॉफ इरफाना अंजुम, शगुफा नाज, फातिया नाज, इकरा, फरीदा बानो, मोहम्मद शादाब, बुशरा परवीन, उजमा, एडवोकेट हिना, यासमीन, मोहम्मद सादिक, हाफिज राशिद, राजेंद्र कुमार, अकरम, सजील इत्यादि उपस्थित रहे।

"
""
""
""
""
"

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ये भी पढ़ें