Home खेत खलिहान पंजाब की मंडियों में आज से गेहूं की सरकारी खरीद शुरू, फिर...

पंजाब की मंडियों में आज से गेहूं की सरकारी खरीद शुरू, फिर सीएम से हो सकती है बात

चंडीगढ़। पंजाब की मंडियों में आज से गेहूं की सरकारी खरीद शुरू हो जाएगी, लेकिन किसानों को सीधी अदायगी के विरोध में आढ़तियों ने हड़ताल पर जाने का फैसला किया है। शुक्रवार को भी इस मसले का कोई हल नहीं निकल पाया। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आढ़तियों से हड़ताल न करने की अपील की है।

आज आढ़तियों की लुधियाना में बैठक हो रही है। इसके बाद फिर सीएम से बात हो सकती है, जिसमें कुछ हल निकलने की उम्मीद है। पंजाब सरकार अभी तक कोई अंतिम फैसला नहीं ले पाई है। हालांकि, केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल से बात करने गए तीन मंत्रियों ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को साफ कर दिया है कि केंद्र के रवैये के बाद पंजाब के पास अब सीधी अदायगी के सिस्टम को अपनाने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। इस बैठक में मौजूद रहे आढ़ती एसोसिएशन के प्रधान विजय कालड़ा ने मुख्यमंत्री की अपील पर कहा कि हड़ताल पर न जाने का फैसला वह स्वयं नहीं ले सकते। उन्हें जिला प्रधानों से बात करनी होगी।

उधर, आढ़तियों के रविंदर चीमा ग्रुप ने साफ कर दिया है कि सीधी अदायगी को लेकर केंद्र सरकार ने जो रवैया अपनाया है, उससे आढ़तियों में नाराजगी है। इसलिए उन्होंने फैसला किया है कि वे मंडियों में न तो गेहूं की सफाई करवाएंगे न ही भंडारण के लिए गाडिय़ों में ढुलाई करेंगे। सरकार चाहे तो अपनी एजेंसियों के जरिए अनाज उठवा ले। विजय कालड़ा ने कहा कि शनिवार को लुधियाना में बैठक के बाद मुख्यमंत्री को अपने फैसले से अवगत करवा दिया जाएगा।

दरअसल, सीधी अदायगी के खिलाफ हरियाणा के आढ़तियों के हड़ताल पर चले जाने से मामला ज्यादा तूल पकड़ गया है। हरियाण में भी गेहूं की खरीद जोर नहीं पकड़ पा रही है, जबकि वहां एक अप्रैल से गेहूं की खरीद शुरू हो चुकी है। अभी तक मात्र 1.42 लाख टन गेहूं ही खरीदा जा सका है। पंजाब में गेहूं पककर पूरी तरह तैयार है। अनुमान है कि मंडियों के शुरू होते ही रोजाना आठ से दस लाख टन गेहूं रोजाना आएगा। अगर ढ़ुुलाई धीमी रहती है तो तीन-चार दिन में ही गेहूं के अंबार लग जाएंगे। इस स्थिति से राज्य की खरीद एजेंसियां कैसे सुलझेंगी, यह बड़ा सवाल है।

मंडी बोर्ड ने जारी किए पास, किसान असमंजस में

कोरोना के चलते मंडी बोर्ड ने एक बार फिर से किसानों को पास जारी करके गेहूं लाने का सिस्टम बनाया है। किसानों के मन में यह आशंका है कि वे अगर गेहूं लेकर जाएंगे तो आढ़तियों के हड़ताल पर होने के चलते वे ढेरी कहां लगाएंगे। उनकी गेहूं की सफाई कौन करवाएगा।

चार हजार मंडियों में दस हजार मास्क व सैनिटाइजर की बोतलें

मंडी बोर्ड के चेयरमैन लाल सिंह ने कोविड संबंधी सुरक्षा उपायों को सख्ती से लागू करने की बात कही है। उन्होंने 5600 कर्मचारियों को 10 हजार मास्क (एन-95) और सैनिटाइजर की 10 हजार बोतलें मुहैया करवाई हैं। लाल सिंह ने कहा कि मंडियों की संख्या 1872 से बढ़ाकर 4000 की गई है। इस सीजन में 130 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीदने का लक्ष्य है।