कांग्रेस पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने हाईकमान को भेजी सफाई, जानिए क्या कहा

देहरादून। बीजेपी और अन्य पार्टियों से बढ़ती नजदीकियों के चलते कांग्रेस आलाकमान के गुस्से का सामना कर रहे पूर्व प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने पार्टी को सफाई दी है. उन्होंने पार्टी के साथ 44 साल के संबंधों का जिक्र करते हुए कहा कि वह कांग्रेस के समर्पित सिपाही हैं और आगे भी रहेंगे.

किशोर उपाध्याय ने उत्तराखंड में पार्टी आलाकमान द्वारा नियुक्त वरिष्ठ पर्यवेक्षक मोहन प्रकाश के माध्यम से अपनी बात हाईकमान तक पहुंचा दी है. उन्होंने कहा कि भाजपा नेताओं ने उन्हें वन अधिकार आंदोलन पर चर्चा के लिए बुलाया था। उत्तराखंड के आम आदमी की चिंता से जुड़े मुद्दों को लेकर वह शुरू से ही सभी दलों से मिलते रहे हैं. बीजेपी नेताओं से मुलाकात को लेकर उन्होंने कहा कि उन्होंने उन्हें बातचीत के लिए बुलाया था.

किशोर उपाध्याय ने कहा कि उनके भाजपा में शामिल होने या उस पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ने की बात हो रही है, जबकि सवाल भाजपा नेता प्रल्हाद जोशी से पूछा जाना चाहिए कि क्या उन्होंने उनसे टिकट मांगा. उन्होंने कहा कि कांग्रेस के साथ उनके मजबूत संबंध हैं। किशोर के स्पष्टीकरण के बाद पार्टी क्या रुख अपनाती है, यह अभी पार्टी की ओर से स्पष्ट नहीं है. बीते दिनों भाजपा नेताओं से उनकी मुलाकात की जानकारी सामने आने के बाद प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव ने पत्र लिखकर उन्हें पार्टी के सभी पदों से हटा दिया था. उन्होंने अपने खिलाफ लंबित कार्रवाई का भी हवाला दिया।

बताया जा रहा है कि बीजेपी नेताओं से मुलाकात को लेकर पार्टी आलाकमान ने कड़ा रुख अख्तियार किया है. किशोर इस बात से भी खफा हैं कि पार्टी के भीतर उनके विरोधी उनकी बीजेपी के साथ मुलाकात को किसी और तरीके से बढ़ावा दे रहे हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.