जालोर में पानी न मिलने पर पांच साल की बच्ची की मौत
K

जालोर. जालोर जिले में पानी न मिलने से रेतीले धोरों में एक 5 साल की मासूम बच्ची ने प्यास से तड़प-तड़प कर दम तोड़ दिया। बच्ची की नानी भी उसके पास ही बेहोश पड़ी मिली। इस घटना के एक दिन बाद केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने घटना को शर्मनाक बताते हुए गहलोत सरकार और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को घेरा। केंद्रीय मंत्री ने पूछा कि अब राजस्थान सरकार, सोनिया और राहुल चुप क्यों हैं?
ग्रामीणों की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने बुजुर्ग महिला को पानी पिलाकर स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया है। मासूम के शव का पोस्टमार्टम करके उसे परिजनों को सौंप दिया गया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी उसकी मौत का कारण पानी न मिलना बताया गया है।
जानकारी के अनुसार, यह दर्दनाक घटना जालोर जिले के रानीवाड़ा क्षेत्र के रोड़ा गांव में रविवार को हुई बताई जा रही है। यहां रविवार को दोपहर में करीब 45 डिग्री की तेज धूप में पानी नहीं मिलने की वजह से मासूम बच्ची अंजली ने दम तोड़ दिया। उसकी नानी सुखी देवी बेहोशी की हालत में उसके पास पड़ी मिलीं। स्थानीय लोगों ने जब पुलिस को इसकी सूचना दी तो उसने बुजुर्ग महिला को स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया। 

जानकारी के मुताबिक, सुखी देवी अपनी नातिन अंजलि के साथ सिरोही के पास रायपुर से दोपहर में रानीवाड़ा क्षेत्र के डूंगरी स्थित अपने घर आ रही थीं। कोरोना काल के चलते वाहनों की आवाजाही बंद होने के कारण उन्हें कोई साधन नहीं मिला। इस पर वह अपनी पांच वर्षीय नातिन के साथ पैदल ही अपने गांव चल पड़ीं। करीब 20 से 25 किलोमीटर का सफर तय करने से दोनों बुरी तरह से थक गई थीं। 

इसी दौरान रेतीले धोरों में दोनों प्यास से बेहाल हो गईं। पानी न मिलने से रोड़ा गांव के पास जहां मासूम अंजलि की मौत हो गई। वहीं सुखी देवी बेहोश होकर गिर गईं। कोरोना काल और गर्मी का मौसम होने के कारण काफी देर से कोई उधर से गुजरा भी नहीं तो लोगों को घटना की जानकारी भी नहीं मिल पाई। जब जानकारी मिली तब तक काफी देर हो चुकी थी। 

Share this story