Home कविता/शायरी शिक्षा

शिक्षा

सिम्मी हसन

बहुत ज़रूरी है
लड़कियों के लिए
सिर्फ लड़कियों की नहीं
हर एक के लिए
ताकि वे जान सकें
सूरज बस सूरज है
कई तरह के गैसों से बना
एक दहकते लावे की तरह
एक खगोलीय तारा बस
कोई भगवान नहीं
बस एक तारा है
बिल्कुल उसी तरह
जिस तरह नापी जाती है
लड़कियों की लंबाई
नापे जाते हैं उनकी गरिमा
उनके कपड़ों से
बिल्कुल उसी तरह
नापी जा सकती है ये धरती
शिक्षा बताती है
खगोल से ले कर विज्ञान तक
रोटी से लेकर जलयान तक
वो ये भी बता सकती है
की जो स्त्रियां बेटियाँ पैदा करने पर
मारी जाती हैं
बिठा दी जाती हैं मायके
या उन पर लाई जातीं हैं सौतनें
दरअसल ये दोष
उन औरतों का नहीं
उनके उन पतियों का होता है
जिनके कारण पैदा होतीं हैं बेटियाँ
इसलिए भी ज़रूरी है शिक्षा
की बिना शिक्षा के मूक मौन सी
लड़कियाँ उठा सकें
अपने अधिकारों की आवाजें…