विश्व धूम्रपान निषेध दिवस 31 मई 2021पर जागरूकता बढ़ाती देवभूमि की बेटी
K

तम्बाकू व इससे बने प्रत्येक प्रोडक्ट से होने वाली बीमारियों के बारे में जानते हुए भी जो लोग तंबाकू या फिर उससे बनने वाले पान मसाले तथा सिगरेट आदि का सेवन कर रहे हैं, उन्हें तंबाकू का सेवन करना छोड़ देना चाहिए। यह कार्य  ना केवल उनके स्वास्थ्य के लिए बल्कि उनके आस-पास रहने वाले लोगों के लिए भी एक वरदान साबित होगा । 

तंबाकू और इससे बने पदार्थों का सेवन करने के कारण फेफड़ों का कैंसर, इरेक्टाइल डिस्फंक्शन, लिवर कैंसर, मुंह का कैंसर, डायबिटीज का खतरा, हृदय रोग कोलन कैंसर और महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर जैसी कई प्रकार की गंभीर बीमारियां हो जाती हैं। और इस कोरोना संकट काल में फेफड़ों का मजबूत होना अति आवश्यक है । 

एक बार हमारे पापाजी भी जब फौज से छुट्टी पर घर आये थे तो कुछ सिगरेट भी साथ में लेकर आये थे । जब मुझे इस बात का अंदेशा हुआ तो मैंने मम्मी से बार बार उन्हें रोकने को कहा  पापा जी थोड़ा डांट-फटकार ज्यादा करते थे तो मेरी भी सीधे जाकर कह पाने की हिम्मत न हुई । मैंने सोचा इनकी आदत न बन जाए इसलिए कुछ करना होगा । 
 अतः जब जब वो सिगरेट को जलाते तो मैं खांसी करने का बहाना बना लेतीऔर तब तक खांसती व सभी विंडोज और पर्दे खोल देती   जब तक सारी बदबू कमरों से साफ न हो जाती । यह मेरा रोज का काम बन गया । एक दो बार तो उन्होंने मुझे आंख दिखाते हुए रोकने की कोशिश भी की परन्तु न वो खुल कर कुछ कह पाते न ही मैं । 

मैंने मम्मी को भी यही करने को कहा यह देख पापाजी थोड़ा बहुत जलील से होने लगे और दिन भर में जब भी उनको अब अमल लगता लाइटर और सिगरेट के साथ छत पर चले जाते सर्दियों के दिन बार बार छत में जाना अर्थात कुछ दिन तक यह जारी रहा हम लोग उनको छत में जाता देख थोड़ा उपहास सा महसूस कराने लगे । इस प्रकार वो तंग आ गए और अन्त में सिगरेट को सदा के लिए अलविदा कह दिया । 

यह फार्मूला मैंने सार्वजनिक प्लेटफॉर्म पर भी काफी बार आजमाया लोगों के हाथों में जली सिगरेट बीड़ी या गुटका आदि देख उन्हें थोड़ा अजीब सी प्रतिक्रिया देना या सम्भव हो तो उनसे बात कर समझाना वाकई अच्छा रिस्पॉन्स मिला ।
अतः आप लोगों से भी अपील है कि कृपया अधिक से अधिक इन चीजों को घर परिवार व समाज से दूर रखने में सहायक बनें ।

जब कोई व्यक्ति इनका प्रयोग ही नहीं करेंगे तो फिर दुकानदार मंगाना बन्द कर देंगे और इन कम्पनियों को घाटा होगा जिसके परिणामस्वरूप उनको इन कम्पनियों को बन्द कर कोई अन्य व्यवसाय अपनाना पड़ेगा। 

शराब की बोतल के बाहर या किसी भी तम्बाकू के रैपर में साफ साफ लिखा रहता है कि यह स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है फिर भी आप उसे खून पसीने की कमाई लगाकर खरीद लाते हैं । थोड़ी तो शर्म आनी चाहिए तार्किक आधार पर किसी भी कार्य को करने से पहले सोचें कि उसके परिणाम आपके साथ साथ घर परिवार व समाज में क्या पड़ेंगे तब निर्णय लें । 
मेरी सभी से अपील है कृपया जीवन का आनन्द लें , स्वयं भी जिएं और दूसरों को भी जीने दें।
धन्यवाद !

✍️सम्भावना पन्त

Share this story