क्रिकेटर यशपाल शर्मा का हार्ट अटैक से निधन  
n

नई दिल्ली:  पूर्व भारतीय क्रिकेटर यशपाल शर्मा का हार्ट अटैक की वजह मंगलवार सुबह निधन हो गया।  से यशपाल शर्मा का निधन हुआ। 66 वर्ष की उम्र में उन्होंने अंतिम सांस ली। यशपाल शर्मा उस टीम इंडिया का हिस्सा रहे थे, जिसने 1983 में पहली बार वर्ल्डकप जीता था। 37 टेस्ट और 42 वनडे मैच खेलने वाले यशपाल 1983 वर्ल्ड कप में भारत की ओर से सबसे ज्यादा रन बनाने वालों में दूसरे नंबर पर थे। यशपाल शर्मा ने इंग्लैंड के खिलाफ लॉर्ड्स में 1979 में अपना टेस्ट डेब्यू किया था, जबकि 1983 में अपना आखिरी टेस्ट मैच खेला था। 1978 में वनडे डेब्यू किया था और 1985 में अपना आखिरी वनडे मैच खेला था।

मिडिल ऑर्डर में उनकी मजबूत बल्लेबाजी की वजह से एक बार सुनिल गावस्कर ने उन्हें टीम इंडिया का क्राइसिस मैन कहा था। यशपाल शर्मा के निधन के बाद खेल जगत में शोक की लहर है। वहीं नेता और खिलाड़ी भी उनके निधन पर दुख जता रहे हैं।

यशपाल शर्मा के निधन पर उनके साथी और पूर्व कप्तान कपिल देव रो पड़े। उन्होंने कहा कि पिछले हफ्ते ही उनकी यशपाल से मुलाकात हुई थी। कपिल देव ने कहा, “मुझे तो अभी भी लग रहा है कि ये सच नहीं है। समझ ही नहीं आ रहा मुझे, अभी हम पिछले हफ्ते मिले थे और बहुत ही अच्छे सेहत में थे। भगवान की जो मर्जी हो, उससे हम लड़ नहीं सकते। हां भगवान को आज पूछेंगे जरूर कि ऐसा मत करो।

सूचना और प्रसारण मंत्री, अनुराग ठाकुर ने पूर्व क्रिकेटर यशपाल शर्मा के निधन पर दुख व्यक्त किया। 1983 विश्व कप विजेता टीम के सदस्य के निधन की खबर सुनकर हैरान हूं। ठाकुर ने कहा कि वह अच्छे स्वाभाव के इंसान थे। अंशुमन गायकवाड़ ने कहा कि उन्हें यकीन नहीं हो रहा है कि ऐसा हो गया। उन्होंने कहा कि यशपाल मैदान में लंबे-लंबे छक्के मारते थे। गायकवाड़ ने यशपाल के ‘बादाम कनेक्शन’ की कहानी भी सुनाई। गायकवाड़ ने कहा कि वह भिगोकर बादाम खाते थे और फिर मैदान में जौहर दिखाते थे। वे उन्हें ‘बादाम’ कहकर बुलाते थे।

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने पूर्व क्रिकेटर यशपाल शर्मा के निधन पर शोक व्यक्त किया। राष्ट्रपति ने ट्वीट किया “1983 क्रिकेट विश्व कप में महत्वपूर्ण मैचों के दौरान उनके उल्लेखनीय प्रदर्शन ने क्रिकेट इतिहास में भारत की सबसे बड़ी जीत में से एक में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।”

Share this story