सपा को थामने आगे आ रहे ,बसपा संस्थापक सदस्यों में शामिल दो कद्दावर नेता ।

खबरे सुने

उत्तर प्रदेश : अखिलेश यादव की अगुवाई में राजनीति में अपनी शानदार उपस्थिति दर्ज कराने वाले जनपद निवासी बसपा संस्थापक सदस्यों में शामिल दो कद्दावर नेता पूर्व मंत्री राम अचल राजभर एवं लालजी वर्मा आगामी 7 नवंबर को जनपद मुख्यालय पर सत्ता परिवर्तन जनादेश रैली आयोजित कर समाजवादी पार्टी में शामिल हो सकते हैं। इससे पहले बीते 24 सितंबर को सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव के साथ वायरल तस्वीर के साथ इन दोनों नेताओं की सपा में शामिल होने की बात अटकलों मे थी। 24 सितंबर की सपा सुप्रीमो के साथ इन दोनों वरिष्ठ नेताओं की मुलाकात एक औपचारिक मुलाकात थी। इन दोनों वरिष्ठ नेताओं के जनपद अंबेडकर नगर के जिला मुख्यालय पर होने वाले कार्यक्रम में समाजवादी पार्टी में शामिल होने का दावा भी किया था।
बता दें कि बीते 3 जून को उत्तर प्रदेश शासन में कई बार मंत्री एवं साढे तीन दशकों तक बहुजन समाज पार्टी जैसी राष्ट्रीय पार्टी में राष्ट्रीय पदाधिकारी तक का सफर तय करने वाले बसपा के संस्थापक सदस्यों में शामिल विधायक राम अचल राजभर एवं विधायक लाल जी वर्मा को पंचायत चुनाव में पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल रहने का आरोप लगाते हुए बसपा सुप्रीमो मायावती के द्वारा बाहर का रास्ता दिखा दिया गया था। इसके बाद से ही पिछड़ी जाति के साथ सर्व समाज में अपनी गहरी पैठ रखने वाले इन दोनों नेताओं ने पूर्वांचल समेत उत्तर प्रदेश के कई जनपदों का दौरा कर अपना एक मजबूत संगठन बनाने का दावा किया। जिसमें कई हजार कार्यकर्ताओं के साथ लाखों लोगों का समर्थन बताया जाता है। जिसका नजरा आगामी 7 नवंबर को राम अचल राजभर एवं लालजी वर्मा के नेतृत्व में भानमती स्मारक महाविद्यालय के प्रांगण में होने वाली जनसभा में देखने को मिल सकता है। इसी कार्यक्रम की तैयारी एवं इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रुप में प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को आने का न्योता देने के लिए ही दोनों नेता प्रेस कॉन्फ्रेंस में शामिल हुए थे। जिसको लेकर इन दोनों नेताओं के समाजवादी पार्टी में शामिल होने की चर्चाओं ने जोर पकड़ लिया था। हालांकि इन दोनों नेताओं के अपने कई हजार कार्यकर्ताओं के साथ समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव की मौजूदगी में सपा में शामिल होने के लिए ही आगामी 7 नवंबर को जनपद मुख्यालय पर होने वाला कार्यक्रम बनाया जा रहा है। जो काफी हद तक समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव की इस सभा में मौजूदगी पर निर्भर करेगा। वही इस कार्यक्रम में सुरक्षा एवं अव्यवस्था न फैले इसलिए इस कार्यक्रम में जनपद समेत उत्तर प्रदेश से कई जनपदों से आने वाले कार्यकर्ताओं को ही बुलाया जा रहा है। जिनके साथ जनपद के दोनों कद्दावर नेता वर्तमान विधायक समाजवादी पार्टी में शामिल होकर कई महीनों से लग रहे अटकलों पर विराम लगा सकते हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.