Home उत्तराखंड उत्तराखंड के मुख्यमंत्री, कुर्सी को कोई खतरा नहीं- मुन्ना सिंह चौहान

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री, कुर्सी को कोई खतरा नहीं- मुन्ना सिंह चौहान

देहरादून । उत्तराखंड में पिछले दो दिनों से चले रहे सियासी तूफान पर आखिरकार भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता व विधायक मुन्ना सिंह चौहान ने थाम दिया है। सोमवार देर रात नई दिल्ली में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में चौहान ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को हटाए जाने की सभी अटकलों पर विराम लगा दिया है। उन्होंने कहा कि त्रिवेंद्र बतौर मुख्यमंत्री अपना कार्यकाल पूरा करेंगे। यह पूछे जाने पर कि क्या मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र को हटाए जाने पर हाईकमान विचार कर रहा है, चौहान ने साफतौर पर कहा कि त्रिवेंद्र को मुख्यमंत्री पद से हटाए जाने की अफवाहें फैलाई जा रह थीं, जो पूरी तरह से गलत थीं। चौहान ने कहा कि उत्तराखंड भाजपा में सांसद, विधायक सहित पार्टी के वरिष्ठ नेताओं में किसी भी प्रकार से कोई गतिरोध नहीं है। पार्टी के सभी नेता एकजुट होकर डबल इंजन सरकार को मजबूती देने के लिए कार्य कर रहे हैं। कहा कि भाजपा का कोई भी विधायक असंतुष्ट नहीं है और सभी विधायक सरकार के साथ खड़ें हैं।

संसदीय बोर्ड की बैठक पर बोलते हुए भाजपा प्रदेश प्रवक्ता चौहान ने कि मुख्यमंत्री पद किसको बैठाना है या हटाना है यह संसदीय बोर्ड की बैठक और पार्टी हाईकमान का फैसला होता है। फिलहाल, सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत की कुर्सी को कुछ भी खतरा नहीं है। चौहान ने कहा कि पार्टी की ओर से मंगलवार को भाजपा विधानमंडल की बैठक नहीं बुलाई गई है। सीएम आज नई दिल्ली में रात्रि विश्राम कर मंगलवार सुबह 10-11 बजे राजधानी देहरादून के लिए रवाना होंगे। चौहान ने दावा किया है कि सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत का नई दिल्ली दौरा पार्टी हाईकमान के आदेशों के बाद हुआ था नकि उनकों पद से हटाने के लिए। चूंकि, 18 मार्च को त्रिवेंद्र सरकार अपना चार साल का कार्यकाल पूरा कर रही है, इसलिए बैठकों का दौर जारी था।

बता दें कि सोमवार देर शाम को भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की बैठक में सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत को नहीं बुलाया गया था। शनिवार को आयोजित भाजपा की कोर कमेटी की बैठक के बार झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने नड्डा और शाह को कमेटी की रिपोर्ट सौंपी थी। रिपोर्ट को आधार मानकर ही मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के भाग्य का फैसला होना था। सूत्रों की मानें तो, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की फिलहाल कुर्सी बची हुई है। बैठक खत्म होने के बाद सीएम त्रिवेंद्र सांसद अनिल बलूनी के घर पहुंचे थे। करीब डेढ़ घंटे तक चली मुलाकात पर उत्तराखंड में चल रही राजनीतिक हलचलों पर चर्चा हुई थी। उसके बाद, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के घर की ओर रुख किया था। वहीं भी, दोनों नेताओं के बीच काफी देर तक राजनीति से जुड़ी बातों पर विचार-विर्मश किया गया था।

वहीं सोमवार दोपहर को भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने बयान जारी करते हुए कहा था कि उत्तराखंड में आगामी 2022 का विधानसभा चुनाव मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अध्यक्षता में ही लड़ा जाएगा। प्रदेश में हो रहे नेतृत्व परिवर्तन की सभी अटकलों पर विराम लगाते हुए भगत ने कहा था कि प्रदेश में नेतृत्व परिवर्तन की कोई गुंजाइश नहीं है। भाजपा के कई विधायकों के नई दिल्ली में डेरा डालने के सवाल पर भगत ने कहा था कि मंत्रियों व विधायकों का दिल्ली आना-जाना लगा रहता है ताकि केंद्र की विकास योजनाओं को अपने-अपने क्षेत्र में लागू कराया जा सके। कहा कि त्रिवेंद्र सरकार का 18 मार्च को चार साल का कार्यकाल भी पूरा हो रहा है, इसलिए सांसदों व विधायकों के साथ बैठक भी की जा रही है। वहीं, प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी में शनिवार को चले सियासी ड्रामे के बीच अब असंतुष्ट विधायकों को साधने के लिए मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चाएं तेज हुईं थीं।