कटीले तार… कंक्रीट की दीवार, आखिर आज हट गई कई लेयर की बैरिकेडिंग, देखें मौके पर कैसे चल रही है JCB

खबरे सुने

तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन अभी खत्म नहीं हुआ है| यह लंबे समय से चल रहा है और यूं ही जारी है| दिल्ली की सीमाओं पर किसान अपना आंदोलन छेड़े हुए हैं| इधर, भले ही किसान आंदोलन पर कोई फर्क न पड़ा हो लेकिन लगता है अब सरकार को जरूर फर्क पड़ रहा है| दरअसल, किसान आंदोलन के चलते सड़कों पर जो जबरदस्त जंग जैसी पुलिस की ओर से बैरिकेडिंग की गई थी वह अब हटाई जा रही है| दिल्ली-उत्तर प्रदेश सीमा यानि गाजीपुर बॉर्डर पर अब बैरिकेडिंग को सिरे से हटाया जा रहा है|

बतादें कि, दिल्ली पुलिस द्वारा यहां कई लेयर की बैरिकेडिंग कर रखी गई थी| पुलिस द्वारा की गई इस बैरिकेडिंग में कटीले तार… कंक्रीट की दीवार का इस्तेमाल किया गया था और साथ ही लोहे के तमाम बैरिकेड्स अड़ाए गए थे| फिलहाल, अब जेसीबी की मदद से सबकुछ हट रहा है| मौके पर एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि ऊपर से आदेश है जिसके तहत अब बैरिकेडिंग  नहीं रखी जाएगी बैरिकेडिंग हटाकर आवागमन के लिए रास्ता खोला जाएगा| बरहाल, बैरिकेडिंग हटने से आने-जाने वाले लोगों को काफी राहत मिलने वाली है|

सुप्रीम कोर्ट ने हाल ही में कहा था सड़क बंद करना गलत …..

धयान रहे कि, सुप्रीम कोर्ट ने हाल ही में में सड़क अवरुद्ध याचिका पर सुनवाई की थी| तब सुप्रीम कोर्ट ने कड़े रुख में साफ किया था कि किसी आवागमन वाली सड़क को अवरुद्ध नहीं रखा जा सकता है| जिसके बाद किसान नेताओं का कहना था कि हमनें कोई सड़क बंद नहीं की है| ये काम दिल्ली पुलिस का है| दिल्ली पुलिस ने बैरिकेडिंग कर सड़को को अवरुद्ध किया हुआ है| जहां अब बैरिकेड्स हटने के पीछे ‌सुप्रीम कोर्ट के आदेश को वजह माना जा रहा है।

राकेश टिकैत क्या बोले-

गाज़ीपुर बॉर्डर से BKU के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि प्रधानमंत्री ने कहा था कि किसान अपनी फसल कहीं पर भी बेच सकता है। अगर सड़कें खुली रहीं तो हम अपनी फसल बेचने के लिए संसद भी जाएंगे। पहले हमारे ट्रैक्टर दिल्ली जाएंगे। हमने रास्ता नहीं रोका है। सड़क जाम करना हमारे विरोध का हिस्सा नहीं|

Leave A Reply

Your email address will not be published.