बारबाडोस कोे मिली आजादी,गणतंत्र घोषित राज्य के पहले राष्ट्रपति सांद्रा मसोन ।

ब्रिजटाउन: खत्म हुआ महारानी एलिजाबेथ-।। का राज, कैरेबियाई द्वीप बारबाडोस अब एक गणतंत्र देश बन गया है। बारबाडोस को सोमवार आधी रात को गणतंत्र घोषित किया गया। इसी के साथ यहां महारानी एलिजाबेथ-II का शासन खत्म हो गया।
इस मौके पर विशेष समारोह आयोजित हुआ जिसमें ब्रिटेन के राजकुमार चार्ल्स सहित कई नेता शामिल हुए।

महारानी के शासन के खत्म होने के ट ही डेम सांद्रा मसोन ने यहां के पहले राष्ट्रपति के तौर पर शपथ ली। इस कैरेबियाई द्वीप पर पहली बार करीब 400 साल पहले एक ब्रिटिश शिप पहुंची थी। इसके बाद से ही यहां अग्रेजों का शासन था।

बारबाडोस को आजादी 1966 में मिल गई थी लेकिन वह पूरी तरह से गणतंत्र नहीं हुआ था। ज्यादातर शासन व्यवस्थाएं अभी तक ब्रिटेन के हिसाब से ही चल रही थीं। हाल के वर्षों में बारबाडोस में पूर्ण गणतंत्र घोषित किए जाने की मांग काफी तेज हो गई थी।

21 बंदूकों की सलामी और राष्ट्रगान
बारबाडोस में सोमवार रात के लिए खास कार्यक्रम आयोजित किए गए थे। आधी रात होते ही 21 बंदूकों की सलामी दी गई और राष्ट्रगान गाया गया। इस दौरान राजधानी के ‘हीरोज स्कावयर’ पर हजारों लोग मौजूद थे।

समारोह का आयोजन उस लोकप्रिय चौक पर हुआ जहां पिछले साल एक ब्रिटिश लॉर्ड की प्रतिमा हटायी गई थी। बारबाडोस के आधिकारिक तौर पर गणतंत्र बनने के साथ ही रात में जमकर आतिशबाजी भी की गई। पूरे द्वीप में बड़े-बड़े स्क्रीन लगाई गई थी ताकि लोग इस ऐतिहासिक घटना को लाइव देख सकें।

इस दौरान कई स्थानीय कलाकारों के साथ एक ऑर्केस्ट्रा का आयोजन किया गया। इसे ऑनलाइन भी प्रसारित किया गया, जिससे अमेरिका, कनाडा और उसके बाहर रहने वाले बोरबाडोस के नागरिकों ने उत्साह में मैसेज पोस्ट किये।

बारबाडोस की आबादी करीब 3 लाख है और ये जगह पर्यटन के लिए दुनिया भर में मशहूर है। कैरेबियाई द्वीपों में इसे बेहद समृद्ध माना जाता है। इससे पहले गयाना, डोमनिका, त्रिनिदाद और टोबैगो खुद को अलग गणतंत्र घोषित कर चुके हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.