Home उत्तर प्रदेश श्रद्धालुओं के अनिश्चितकाल के लिए बन्द किये बांके बिहारी के दर्शन,...

श्रद्धालुओं के अनिश्चितकाल के लिए बन्द किये बांके बिहारी के दर्शन, जानिए क्यो

मथुरा । उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले के वृंदावन में स्थित प्रसिद्ध बांके बिहारी मंदिर श्रद्धालुओं के लिए फिर से खुलने के बमुश्किल दो दिन बाद ही सोमवार से अनिश्चितकाल तक के लिए बंद कर दिया गया । यह कदम भारी भीड़ को देखते हुए उठाया गया है। सात महीने तक बंद रहने के बाद, नवरात्रि के पहले दिन, शनिवार को मंदिर फिर से खुल गया था। प्रसिद्ध मंदिर में 25,000 से अधिक भक्तों की भीड़ उमड़ी।

मंदिर खोलने से पहले, इसके प्रबंधन ने एक नोटिस जारी किया था जिसमें कहा गया था कि एक दिन में केवल 400 भक्तों को अनुमति दी जाएगी।

नोटिस में कहा गया था, “200 श्रद्धालुओं को सुबह 8 बजे से 12 बजे तक पहले स्लॉट में दर्शन का मौका मिलेगा। अगले शिफ्ट में 5.30 बजे से 9.30 बजे के बीच 200 अन्य भक्तों को अनुमति दी जाएगी।”

समिति ने उन लोगों को भी प्रवेश देने का फैसला किया था जो ऑनलाइन पोर्टल पर खुद को पंजीकृत करने के बाद आते हैं।

मंदिर को फिर से खोलने पर भारी भीड़ इकट्ठा हुई, जिसने मंदिर समिति के लिए एक बड़ी चुनौती खड़ी कर दी, जो सामाजिक दूरियों के मानदंडों को लागू करने में विफल रही और स्थानीय पुलिस को मदद के लिए बुलाया गया।

‘कुप्रबंधन’ के आरोपों के बीच, समिति ने मंदिर बंद करने का फैसला किया।

मंदिर प्रबंधन ने एक नोटिस में कहा, “मंदिर 19 अक्टूबर से श्रद्धालुओं के लिए बंद रहेगा। यह महामारी के दौरान श्रद्धालुओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए जिला प्रशासन और पुलिस के साथ उचित समन्वय के बाद भगवान कृष्ण के दर्शन के लिए फिर से खुल जाएगा।”

मथुरा के जिलाधिकारी, सर्वज्ञ राम मिश्रा के अनुसार, “भीड़ प्रबंधन के लिए मंदिर के बाहर पुलिस तैनात की गई थी लेकिन भक्तों की भारी संख्या थी क्योंकि यह नवरात्रि का पहला दिन था। ऑनलाइन पंजीकरण प्रणाली भी नहीं काम कर रही थी और अराजकता बढ़ गई थी। हम श्रद्धालुओं के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर सके क्योंकि यह आस्था का विषय है।”

चंडीगढ़, गुजरात, दिल्ली, महाराष्ट्र और राजस्थान जैसे दूरस्थ स्थानों से भक्त शनिवार को दर्शन के लिए मथुरा पहुंचे थे।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि एक बार ऑनलाइन पंजीकरण प्रणाली व्यवस्था दुरुस्त होने के बाद, भीड़ को नियंत्रित करना आसान हो जाएगा।

उन्होंने कहा, “तब मंदिर के अधिकारी केवल उन लोगों को अनुमति दे सकते हैं जिनके पास दर्शन के लिए एक विशेष स्लॉट की कन्फरमेशन है।”